अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कांग्रेस विधायकों ने धार्मिक स्थलों को खोलने का किया आग्रह,सीएम को सौंपा ज्ञापन


आठ को आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक में निर्णय संभव
रांची:- झारखंड में कोरोना संक्रमण की वजह से धार्मिक स्थल लंबे समय से बंद है, जिससे लोगों की धार्मिक आस्था के साथ ही मंदिरों पर आश्रित लोगों के समक्ष रोजी-रोटी का गंभीर संकट उत्पन्न हो गया है। इस सिलसिले में कांग्रेस विधायकों ने मंगलवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मुलाकात की और इस संबंध में ज्ञापन सौंपा। मुख्यमंत्री ने इस संबंध में जल्द ही उचित निर्णय का भरोसा दिलाया है। बताया गया है कि 8 सितंबर को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक हो रही है, जिसमें धार्मिक स्थलों के स्कूलां को खोलने पर भी निर्णय हो सकता है।
मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से मंगलवार को झारखंड विधानसभा स्थित मुख्यमंत्री कक्ष में राज्य के कृषि मंत्री बादल ने मुलाकात की। कृषिमंत्री ने मुख्यमंत्री को निवेदन पत्र देकर बाबा बैद्यनाथ मंदिर देवघर, बासुकीनाथ मंदिर, रजरप्पा, इटखोरी, पहाड़ी मंदिर सहित राज्यभर में स्थित दर्जनों बंद मंदिर को पूजा-अर्चना के लिए खुलवाने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा है कि कोरोना महामारी की वजह से पूरा विश्व सहित हमारा राज्य भी प्रभावित रहा है, संक्रमण के इस दौर में मंदिरों को सुरक्षात्मक दृष्टिकोण से बंद रखा गया है। अब श्रद्धालुओं द्वारा पूजा-अर्चना के लिए बंद मंदिरों को खोलने का अनुरोध किया जा रहा है। मंदिरों से बहुत सारे लोगों के रोजी-रोजगार भी जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि कि वर्तमान में कोरोना संक्रमण का प्रकोप घटा हुआ है इसलिए भक्तों की श्रद्धा को देखते हुए एवं मंदिरों पर आश्रित लोगों के परिवारजनों की आर्थिक समस्या के मद्देनजर बाबा बैद्यनाथ मंदिर देवघर, बासुकीनाथ मंदिर, रजरप्पा मंदिर, ईटखोरी, पहाड़ी मंदिर सहित राज्यभर स्थित दर्जनों बंद मंदिरों को कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए पूजा-अर्चना के लिए खुलवाने पर सहानुभूति पूर्वक विचार किया जाए।
मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने इस संबंध में यथोचित निर्णय लेने का आश्वासन मंत्री बादल को दिया। मौके पर ग्रामीण विकास विभाग के मंत्री आलमगीर आलम, विधायक उमाशंकर अकेला, इरफान अंसारी, राजेश कच्छप और ममता देवी उपस्थित थी।

%d bloggers like this: