अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मुख्यमंत्री ने 422 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले डबल डेकर फ्लाईओवर का किया शिलान्यास


लोगों की सुविधाएं एवं राज्य के विकास के लिए हमलोग लगातार काम कर रहे हैं : मुख्यमंत्री
पटना:- मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को गांधी मैदान के कारगिल चौक पर आयोजित कार्यक्रम में 422 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले गांधी मैदान से साइंस कॉलेज वाया पीएमसीएच डबल डेकर फ्लाईओवर का रिमोट के माध्यम से शिलान्यास किया और भूमि पूजन कर कार्यारंभ किया।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि पथ निर्माण विभाग को आज के डबल डेकर फ्लाईओवर के शिलान्यास और कार्यारंभ के लिए विशेष तौर पर बधाई देता हूं। उन्होंने कहा कि शिलान्यास के साथ कार्य प्रारंभ होने से हमलोगों को काफी खुशी हुई है। हमसे पहले के वक्ताओं ने सभी चीजों के बारे में विस्तार से जानकारी दे दी है। हमने साइंस कॉलेज और इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ाई की है। इस इलाके से हमारा छात्र जीवन से ही संबंध रहा है और पूरे जीवन भर हमारा लगाव रहेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2005 में हम लोगों के सरकार में आने के बाद से लोगों को काफी सुविधायें दी गयी हैं। आवागमन में काफी सुविधा हुई है, कई प्रकार के निर्माण कार्य हुए हैं और लोगों का व्यापार बढ़ा है। अशोक राजपथ पर भीड़ को देखते हुये फ्लाईओवर का निर्माण जरूरी था। उन्होंने कहा कि पीएमसीएच को देश का सबसे बड़ा अस्पताल बनाया जा रहा है। पीएमसीएच की क्षमता 5,400 बेड की होगी। इसको लेकर कार्य प्रारंभ हो गया है।
उन्होंने कहा कि डबल डेकर फ्लाईओवर के निर्माण से पीएमसीएच आने वालों को काफी सहूलियत होगी। इस इलाके में कई कॉलेज हैं, वहां पढ़ने वाले छात्रों को भी काफी सहूलियत होगी। उन्होंने पत्रकारों से अनुरोध करते हुए कहा कि वर्ष 2005 से पहले के बिहार की स्थिति और आज की स्थिति के बारे में लोगों को बतायें। पटना का पुराना हाल और आज का हाल देख लीजिये, आपको फर्क समझ में आ जायेगा। सोशल मीडिया पर भी लोगों को इसकी जानकारी दें।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हम लोगों को खुदा बख्श लाइब्रेरी से काफी लगाव है। हमने कह दिया है कि खुदा बख्श लाइब्रेरी के भवन से किसी प्रकार की कोई छेड़छाड़ नहीं होगी। इसके काम में कोई बाधा नहीं होनी चाहिये। खुदा बख्श लाइब्रेरी में 2006 के बाद हम कई बार गये हैं। पहले कितने मुख्यमंत्री वहां गये थे? उन्होंने कहा कि अटल सरकार में जब केंद्र में मंत्री थे तो बख्तियारपुर-4 लेन सड़क का निर्माण कराया था। केन्द्र सरकार के सहयोग से बिहार में कई सड़कों, पुल-पुलियों को निर्माण कराया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार भी अपनी तरफ से और सड़कों और पुल-पुलियों के निर्माण कार्य में लगी है। हम लोगों का लक्ष्य है कि राज्य के किसी कोने से भी पटना आने में पांच घंटे से ज्यादा का वक्त नहीं लगे। हमलोगों का लक्ष्य सिर्फ निर्माण कराना ही नहीं है बल्कि उसका मेंटेनेंस कराना भी है। सरकारी भवनों, सड़क एवं पुल-पुलियों का मेंटेनेंस विभाग के द्वारा ही कराये जाने के निर्देश दिये गये हैं। विभाग के द्वारा मेंटेनेंस होने से काम जल्दी होगा। साथ ही विभाग में और अतिरिक्त भर्ती होने से लोगों को रोजगार भी मिलेगा।
उन्होंने कहा कि सड़क मार्ग से जब भी हम कहीं जाते हैं और अगर कहीं कोई गड़बड़ी दिखती है तो रास्ते से सीधे अधिकारियों को फोन कर निर्देश देते हैं। जब हम अटल सरकार में रेल मंत्री थे तो देखा कि रेलवे में पुलों की देख-रेख को लेकर एक अलग विंग है। हमने निर्देश दिया है कि रेलवे की तरह ही बिहार में भी पुल-पुलियों की देखभाल करें।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना से पूरी दुनिया को नुकसान हुआ है। इससे हमारा देश और बिहार भी प्रभावित हुआ है। कोरोना का खतरा अभी भी बरकरार है, इससे सभी को सचेत रहना है। मास्क पहनना सभी के लिये जरूरी है। एक-दूसरे से दूरी बनाकर रहें और हाथ की सफाई करते रहें, बिना वजह घर से बाहर नहीं निकलें।
शिलान्यास कार्यक्रम के पूर्व मुख्यमंत्री ने प्रस्तावित पीएमसीएच के मल्टी लेवल पार्किंग स्थल का भी निरीक्षण किया। उन्होंने जेपी गंगा पथ से पीएमसीएच को जोड़े जाने वाले मार्ग का भी स्थल निरीक्षण किया। कार्यक्रम के दौरान इस योजना से संबंधित एक लघु फिल्म भी प्रदर्शित की गई।

%d bloggers like this: