June 14, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बालक की गिरफ्तारी संस्थागत अत्याचार का एक और उदाहरण:महबूबा

श्रीनगर:- पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने 15 वर्षीय एक बालक को गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम 1967 (यूएपीए) के तहत गिरफ्तार करने को संस्थागत अत्याचार करार देते हुए सोमवार को कहा कि देश में क्या किसी को इसकी चिंता है। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष सुश्री महबूबा ने कहा, “ इस शासनकाल में कश्मीर में असहमति को कुचल दिया गया है, इसे एक खुली जेल में परिवर्तित कर दिया गया है और इससे संतुष्ट न होकर अब बच्चों को निशाना बनाया जा रहा है। ” सुश्री मुफ्ती ने माइक्रो ब्लागिंग साइट टि्वटर पर लिखा, “ एक 15 वर्षीय बालक को यूएपीए के तहत गिरफ्तार किया जाना संस्थागत अत्याचार का एक और उदाहरण है। कश्मीर को एक खुली जेल में परिवर्तित कर दिये जाने के बाद अब बच्चों को निशाना बनाया जा रहा है। इस शासनकाल में असहमति को कुचल दिया गया है। देश में क्या किसी को इसकी परवाह है।” वह कुपवाड़ा जिले में एक अंतिम संस्कार कार्यक्रम में ‘राष्ट्र विरोधी’ नारे लगाने वाले 10 वीं कक्षा के एक छात्र को यूएपीए के तहत गिरफ्तार किये जाने की रिपोर्ट पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहीं थी।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: