अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मुख्यमंत्री योगी ने महाराजा सुहेलदेव को जयंती पर दी श्रद्धांजलि

  • कहा, महाराजा सुहेलदेव का पराक्रम-संघर्ष राष्ट्र आराधना के लिए करता रहेगा सदैव प्रेरित
    लखनऊ:-
    मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित प्रदेश के अन्य नेताओं ने महाराजा सुहेलदेव की जयंती पर उनको श्रद्धांजिल दी है। मुख्यमंत्री ने मंगलवार को कहा कि भारतीय स्वाभिमान, संस्कृति और शाश्वत सनातन मूल्यों की रक्षा के लिए आजीवन संघर्ष करने वाले महान शासक, ‘राष्ट्र रक्षक’ महाराजा सुहेलदेव जी को उनकी जयंती पर कोटि-कोटि श्रद्धांजलि। उन्होंने कहा कि महाराजा सुहेलदेव का पराक्रम और संघर्ष हमें राष्ट्र आराधना के लिए सदैव प्रेरित करता रहेगा। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि भारतवर्ष के इतिहास में मध्यकाल की 11वीं सदी में उत्तर प्रदेश के बहराइच में महाराजा सुहेलदेव एक प्रतापी राजा थे जिन्होंने विदेशी आक्रांता से भारतीय संस्कृति एवं विरासत की रक्षा की थी। महाराजा सुहेलदेव जी का शौर्य एवं पराक्रम वर्तमान पीढ़ी के लिए एक गौरवशाली उदाहरण है। उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने भी वीर शिरोमणि महाराजा सुहेलदेव जी की जयंती पर उनका स्मरण किया है। परिवहन मंत्री अशोक कटारिया ने कहा कि राष्ट्र के मान, सम्मान व स्वाभिमान के लिए आजीवन संघर्ष करने वाले ‘राष्ट्र रक्षक’ महाराजा सुहेलदेव जी की जयंती पर सादर नमन। इसके अलावा प्रदेश के अन्य मंत्रियों, विधायकों व नेताओं ने भी महाराजा सुहेलदेव को जयंती पर श्रद्धांजलि दी है। 11वीं शताब्दी के प्रतापी शासक एवं पराक्रमी योद्धा महाराजा सुहेलदेव की जयंती पर आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वर्चुअल माध्यम से जनपद बहराइच में महाराजा सुहेलदेव स्मारक तथा चित्तौरा झील की विकास योजना का शिलान्यास करेंगे। इसके साथ ही प्रधानमंत्री महाराजा सुहेलदेव स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय एवं महर्षि बालार्क चिकित्सालय, बहराइच का लोकार्पण भी करेंगे। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जनपद बहराइच से सम्मिलित होंगे। इस पूरी परियोजना में महाराजा सुहेलदेव की एक अश्वरोही प्रतिमा की स्थापना करना और कैफेटेरिया, गेस्ट हाउस तथा बच्चों के पार्क जैसी विभिन्न पर्यटक सुविधाओं का विकास करना शामिल है। महाराजा सुहेलदेव का देश के लिए समर्पण और सेवा सभी के लिए एक प्रेरणा का स्रोत है। इस स्मारक स्थल के विकास से देश महाराजा सुहेलदेव की वीर गाथाओं से बेहतर ढंग से परिचित हो जाएगा। इन विकास कार्यों से इस स्थल की पर्यटक क्षमताओं में बढ़ोतरी होगी। बहराइच के चित्तौरा झील एवं कार्यक्रम स्थल को इस अवसर पर बेहद आकर्षक ढंग से सजाया गया है।
%d bloggers like this: