January 18, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

शहीद निर्मल महतो की 33वीं पुण्यतिथि पर मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धांजलि

रांची:- मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने शहीद निर्मल महतो की 33 वीं पुण्यतिथि पर उनकी तस्वीर पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर पार्टी के केंद्रीय महासचिव सह प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य और मनोज पांडेय समेत अन्य पदाधिकारी भी उपस्थित थे।
इस मौके पर हेमंत सोरेन ने कहा कि झारखंड अलग राज्य आंदोलन को व्यापक रूप और पहचान दिलाने में शहीद निर्मल महतो की अग्रणी भूमिका रही थी । उन्होंने इस आंदोलन से सभी वर्गों को जोड़कर जान फूंक दी थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि वे राज्य के ऐसे शख्स और आंदोलनकारी रहे हैं, जिन्होंने अपने संघर्षों की बदौलत झारखंड अलग राज्य के आंदोलन को नई दिशा दी थी स जब तक झारखंड का वजूद रहेगा, शहीद निर्मल महतो का नाम अमर रहेगा स उनके आदर्श हम सभी के लिए प्रेरणास्रोत हैं स उनके द्वारा दिखाए गए राह पर चल कर हम खुशहाल और समृद्ध झारखंड बना सकते हैं ।

इस मौके पर मुख्यमंत्री के प्रेस सलाहकार अभिषेक प्रसाद, मुख्यमंत्री के वरीय आप्त सचिव सुनील श्रीवास्तव, सुप्रियो भट्टाचार्य, विनोद पांडेय और मनोज पांडेय ने शहीद निर्मल महतो की तस्वीर पर पुष्प अर्पित कर नमन किया ।
इधर, जमशेदपुर में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने शहीद निर्मला महतो के शहादत स्थल जाकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। वहीं झामुमो जिला कार्यालय में शहीद निर्मल महतो के शहादाद दिवस पर शहीद निर्मल महतो के तैलीय चित्र पर माल्यार्पण किया गया माल्यार्पण के उपरांत झामुमो जिलाध्यक्ष ने झामुमो कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि शहीद निर्मल महतो हम झारखंडियों के लिए प्रेरणास्रोत है और सदैव बने रहेंगे।झामुमो जिलाध्यक्ष ने आगे कहा कि शहीद निर्मल महतो झारखंड आंदोलन का एक ऐसा नाम है जिनकी शहादत ने पूरे झारखंड को झकझोर कर रख दिया। उनकी शहादत से झारखंड अलग राज्य का मार्ग और भी प्रशस्त हो गया विदित हो कि उनका जीवन काल मात्र 37 वर्ष का रहा उनमें नेतृत्व का अद्दभुत गुण था उनके नेतृत्व क्षमता को देखते हुए 1984 में स्वर्गीय बिनोद बिहारी महतो के बाद आदरणीय गुरु जी शिबू सोरेन स्वयं अध्यक्ष ना बन कर निर्मल महतो को पार्टी का अध्यक्ष बना दिया! झामुमो अध्यक्ष बनने के बाद पूरे झारखंड में झामुमो को एक बेहद ताकतवर पार्टी के रूप में स्थापित कर दिया शहीद निर्मल महतो एक प्रखर वक्ता एवं आत्म विश्वास से लबरेज निडर नेता के रूप में जाने जाते थे 8 अगस्त 1987 कझारखंड के लिए काला दिन साबित हुआ जब जमशेदपुर में उनकी हत्या कर दी गई। उनकी हत्या से पूरा झारखण्ड अस्तब्ध था एवं उनकी हत्या के उपरांत उनके दुश्मन भी रोते हुए उनके गुणों के गुणगान कर रहे थे। ऐसे थे हमारे शहीद निर्मल महतो जी! झामुमो जिलाध्यक्ष श्री पंकज कुमार प्रजापति ने अपने संबोधन ने कहा कि शहीद निर्मल महतो आज भी एक प्रकाश पुंज की भाती हम सबों का मार्ग प्रशस्त करते रहते हैं युवाओं को उनके पद चिन्हों पर चलने की प्रेरणा लेनी चाहिए।मौके पर जिलाध्यक्ष पंकज कुमार प्रजापति के अलावा,जिला प्रवक्ता सत्येन्द्र कुमार मितल , झामुमो छात्र मोर्चा के जिलाध्यक्ष राहुल कुमार यादव,नगर अध्यक्ष राजकिशोर कमल, नगर उपाध्यक्ष डबलू सोनी, नगर उपाध्यक्ष मो अजहर,सदर प्रखंड अध्यक्ष उपेन्द्र राम , प्रतापपुर प्रखंड अध्यक्ष जवाहिर यादव , सचिव असलम अंसारी, श्यामदेव साव, भुनेश्वर साव आदि दर्जनों कार्यकर्ता सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए कार्यक्रम में मौजूद थे।

Recent Posts

%d bloggers like this: