June 14, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

ई-पास सिस्टम को सख्ती से लागू करने के लिए सभी जिलों में बनाया गया है चेकनाक

जमशेदपुर में बनाए गए हैं 33 चेक पोस्ट

रांची:- राज्य में स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के तहत आज से कई और पाबंदियां बढ़ा दी गयी है और यात्री बसों का परिचालन बंद कर दिया गया है। वहीं ई-पास सिस्टम को सख्ती से लागू करने राज्य के सभी जिलों की सीमा पर चेकनाका बनाया गया है।
पूर्वी सिंहभूम जिला प्रशासन की ओर से आज से 27 मई तक स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह का कड़ाई से पालन करवाने की तैयारी कर ली गई है। जमशेदपुर में इंटरस्टेट और इंटरसिटी में कुल 33 चेक पोस्ट बनाए गए हैं। एसएसपी ने बताया कि सभी चेक
नाका में आने और जाने वालों की पूरी जांच की जाएगी। दोपहर 2 बजे के बाद आवश्यक काम के लिए ई-पास का होना जरूरी है। एसएसपी डॉ. एम तमिल वाणन ने बताया कि जिले के सीमावर्ती इलाके में कुल 13 चेकपोस्ट बनाए गए हैं। जबकि शहर में 20 चेकपोस्ट बनाया गया है। कोरोना संक्रमण के चेन को ब्रेक करने के लिए प्रशासन इस बार 16 मई से 27 मई तक सख्ती के साथ कार्रवाई की जा रही है। एसएसपी ने बताया कि सभी चेकपोस्ट पर 3 शिफ्ट में पुलिसकर्मी डयूटी काम कर रहे हैं। बाहर से आने वाले और बाहर जाने वाले सभी वाहनों की जांच कर उनका कोरोना जांच भी किया जा रहा है। दोपहर 2 बजे के बाद लॉकडाउन में आवश्यक काम के लिए निकलने वाले को ई-पास बनाना जरूरी है। बिना ई-पास के पकड़े जाने पर कार्रवाई की जाएगी।
इधर, झारखंड-ओडिशा सीमा पर बिना ई-पास के आनेवालों पर लगाई रोक लगायी गयी है। पश्चिमी सिंहभूम जिले के जगन्नाथपुर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी इकडु डुंडु ने मझगांव में झारखंड ओडिशा सीमा पर बने चेक नाका का निरीक्षण किया। एसडीपीओ ने कहा कि यह चेक नाका जिला का महत्वपूर्ण चेकनाका है। क्योंकि इसी सीमा पर ओडिशा- बंगाल के अधिकतर वाहनों का आगमन होता है। जिसके कारण मेडिकल कार्य को छोड़कर ई- पास के अलावा आगमन पर पूर्णता प्रतिबंध रहेगा। पुलिस पदाधिकारी को निर्देश देते हुए एसडीपीओ ने कहा कि कोरोना गाइडलाइन का आवश्यक रूप से पालन करवाएं और नहीं मानने वालों पर यथाशीघ्र कार्रवाई करें। थाना प्रभारी विकास दुबे ने कहा कि देश के अलग-अलग राज्यों से आने वाले सभी मजदूरों का चेक नाका पर ही उपस्थित मेडिकल टीम की मदद से कोविड-19 जांच की जा रही है। जांच के बाद प्रखंड क्षेत्र के प्रत्येक पंचायतों में बने नेगेटिव और पॉजिटिव क्वॉरेंटाइन सेंटर में मजदूरों को 7 दिन तक रखा जाएगा। पुनः जांच के बाद नेगेटिव वाले को घर भेजा जाएगा और पॉजिटिव मरीज को कोविड-सेंटर में मेडिकल टीम की देखरेख में इलाज किया जाएगा। वहीं, अगर कोई व्यक्ति दूसरे राज्य से आकर बिना सूचना के क्षेत्र में रहता है। तो इस पर कोविड-19 गाइडलाइन के अनुसार कार्रवाई की जाएगी। थाना प्रभारी ने कहा कि थाना क्षेत्र झारखंड ओडिशा सीमा क्षेत्र पर स्थित है। जिसके कारण कई अन्य सड़कों पर आगमन होता रहता है।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: