अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बंशीधर मंदिर में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव की धूम


गढ़वा:- गढ़वा जिला अंतर्गत बंशीधर मंदिर में 193 साल से श्रीकृष्ण जन्मोत्सव का आयोजन होते आ रहा है। लेकिन सुप्रसिद्ध इस बंशीधर मंदिर में कोविड का पालन करते हुये सीमित संख्या में श्रद्धालुओं की उपस्थिति में यहां श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मनाया जा रहा हैं। इस मंदिर में 32 मन सोने से निर्मित भगवान श्रीकृष्ण की अलौकिक प्रतिमा को देखकर देश के कोने-कोने से आए श्रद्धालु मंत्रमुग्ध हो जाते हैं । यहां सामान्य तौर पर जन्माष्टमी को लेकर प्रतिवर्ष बहुत ही रौनक रहती है । एक सप्ताह पूर्व से ही मंदिर परिसर में चहल पहल बढ़ जाती थी । पूरे सप्ताह भर मंदिर प्रांगण में भागवत कथा, प्रवचन, रासलीला, का भव्य आयोजन किया जाता था ।जन्माष्टमी के दिन देश के कोने कोने से लोग यहां पर आते थे। बड़ी संख्या में श्रद्धालु भगवान का दर्शन पूजन एवं मन्नतें मांगा करते थे। परंतु कोरोना के लेकर मंदिर में इस वर्ष बाहरी किसी भी लोगों का प्रवेश वर्जित है ।भगवान के पूजन एवं भक्ति में किसी भी प्रकार की कमी ना हो इसके लिए ट्रस्ट के लोगों ने वृंदावन से विद्वानों को बुलाकर भगवान का भागवत कथा का आयोजन किया है। फ़िलहाल 24 अगस्त से आयोजित होने वाली भागवत कथा में वृंदावन के विद्वानों के द्वारा पाठ किया जा रहा है एवं विधिवत भगवान बंशीधर का पूजा भी स्थानीय विद्वानों एवं वृंदावन के विद्वानों के द्वारा किया जा रहा है ।मंदिर ट्रस्ट के प्रधान ट्रस्टी युवराज राजेश प्रताप देव ने जानकारी देते हुए बताया कि सरकार की अनुमति नहीं मिलने के कारण इस वर्ष लगने वाले भगवान के प्रांगण में पंडाल का निर्माण कर भागवत कथा प्रवचन , रास लीला,कार्यक्रम एवं जन्माष्टमी के दिन होने वाली भब्य कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया गया है ।उन्होंने लोगों से अपने घर में रहकर भगवान की आराधना करने की अपील कि है। उन्होंने बताया कि भगवान की पूजा एवं उनकी भक्ति में किसी भी प्रकार की कमी नहीं किया गया है। विधिवत तरीके से उनका पूजन एवं भागवत का पाठ आयोजित किया जा रहा है।

%d bloggers like this: