अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बीजेपी अपनी नाकामियों को छिपाने की कोशिश कर रही है-जेएमएम


रांची:- झारखंड मुक्ति मोर्चा के केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी गत दिनों सिमडेगा में हुई मॉबलिंचिंग की वारदात के मामले पर राजनीतिक कर रही है। आज रांची में पत्रकारों से बातचीत में श्री भट्टाचार्य ने कहा कि प्रदेश भाजपा अपनी पिछली सरकार की नाकामियों पर पर्दा डालने के लिए यह सब कर रही है। उन्होंने कहा कि मामले पर राज्य सरकार गंभीर है, ..और पुलिस-प्रशासन उस मामले पर गंभीरता पूर्वक कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा को अपने कार्यकाल को नहीं भूलना चाहिए, जब पत्थलगड्डी के नाम पर आदिवासियों को सताया गया। उन्होंने कहा कि मौजूदा राज्य सरकार ने पारा शिक्षकों को न्याय देने का काम किया। प्रेसवार्ता के दौरान श्री भट्टाचार्य ने शिबू सोरेन को उनके जन्मदिन पर बधाई देते हुए उनके दीर्घायु होने की कामना भी की।
उन्होंने कहा कि रघुवर दास अपने समय के बेहतर गर्वेंनेंस की बात कर हेमंत सोरेन सरकार के दो सालों की नाकामी बताते हैं. यह तो पूरे राज्य की जनता ने देखा था कि किस तरह कोरोना काल में दीदी किचन योजना, थाने में खाना खिलाने की योजना से हर जगह लोगों को राहत पहुंचायी गयी. कोई भी आपदा में भूखे नहीं मरा. लेकिन रघुवर सरकार के पांच साल में तो 26 लोगों की मौत केवल भूख से हुई. 16 किसानों ने आत्महत्या की. 18 मॉब लिंचिंग की घटनाएं हुईं.जेएमएम नेता ने कहा कि रघुवर सरकार के समय केवल 22000 करोड़ रुपये खर्च कर मोमेंटम झारखंड के नाम पर हाथी उड़ाया गया. रोजगार के नाम पर युवाओं को एटीएम गार्ड बनाकर बाहर भेज दिया गया. सभी ने देखा था कि किस तरह 13 और 11 जिलों के नाम पर पहली बार किसी राज्य को बांटा गया. सीएनटी एक्ट और पारम्परिक आदिवासी शासन व्यवस्था में बदलाव किये गये. पत्थलगड़ी को देशद्रोही बताकर हजारों बेकसूर आदिवासियों पर मुकदमा दाखिल किया गया. हजारीबाग, जमशेदपुर की कोर्ट में खुलेआम गोली चलाकर हत्याएं की गयीं. बकोरिया कांड में बच्चों को मार दिया गया. ऐसे में वह व्यक्ति आज हेमंत सरकार के दो साल के बेहतर कामों की तुलना कर रहा है.
जेएमएम नेता ने कहा कि नियोजन नीति की बात करने वाले रघुवर दास यह क्यों भूल जाते हैं कि उन्होंने तो केवल रोजगार छिनने का काम किया. भाजपा ने पारा शिक्षकों को पिटाने के अलावा कुछ नहीं किया. हमने उसका स्थायी हल निकाला. सुप्रियो ने कहा कि रघुवर दास के कामों को देखते हुए ही 2019 में जनता ने उनपर संवैधानिक कोड़ा बरसाने का काम किया. न केवल उनकी पार्टी हारी बल्कि वे भी चुनाव हार गये.

%d bloggers like this: