April 17, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मथुरा में पुलिस की पिटाई करने वाले भाजपा एवं आरएसएस आंदोलन

मथुरा:- उत्तर प्रदेश के मथुरा में पुलिस के साथ मारपीट करने वाले भाजपा एवं आरएसएस के कार्यकर्ताओं पर कार्रवाई न की गई तो कांग्रेस आंदोलन करेगी। उत्तर प्रदेश कांग्रेस विधान मण्डल दल के नेता प्रदीप माथुर ने आज यहां संवाददाताओं से कहा कि पुलिस के साथ मारपीट करने वाले भाजपा और आरएसएस के लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई नहीं की गई तो उनकी पार्टी चार दिन बाद धरने से अपना आन्दोलन शुरू करेंगी। उन्होंने कहा कि पुलिस के साथ मारपीट एवं सरकारी काम में बाधा पहुंचाना दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि पिटाई करने वालों तो कार्रवाई नहीं हुई उल्टे पिटने वाले वृन्दावन के कोतवाल अनुज कुमार को ही लाइन हाजिर कर दिया गया तथा वृन्दावन कुभ मेले के वीआईपी घाट चौकी प्रभारी पी के उपाध्याय, कांस्टेबल अनिल एवं गौतम को निलम्बित किया गया तथा दो होमगार्डो के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए उनके विभाग को लिखा गया है
श्री माथुर ने कहा कि भाजपा एवं आरएसएस के कार्यकर्ताओं ने जिस प्रकार कानून अपने हाथ में लेकर सरे आम पुलिस की पिटाई की और प्रशासन न केवल मूकदर्शक बना रहा बल्कि आरोपी कार्यकर्ताओं की निरंकुशता को बर्दास्त किया ,इससे लोकतंत्र पर खतरा पैदा हो गया है। उन्होंने इस बात की भी आशंका व्यक्त की कहीं यह पंचायत चुनाव में बूथ कैप्चरिंग करने का रिहर्सल तो नहीं है।
कांग्रेस नेता ने जिला प्रशासन की इकतरफा कार्रवाई किए जाने की आलोचना करते हुए कहा कि प्रशासन की कार्रवाई से पुलिस का मनोबल गिरा है तथा पुलिस की पिटाई करनेवालों कीे निरंकुशता को बढ़ावा मिला है। उनका कहना था कि प्रशासन के मूक रहने के कारण ही लोकतंत्र की रक्षा के लिए कांग्रेस को आंदोलन का रास्ता सोचने पर मजबूर होना पड़ा है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र के इतिहास में मथुरा में इस प्रकार की घटना भाजपा/आरएसएस के गुर्गो द्वारा दूसरी बार की गई है । पहली बार इस प्रकार की घटना नगर निगम के तत्कालीन एक अधिकारी से की गई थी। उन्होंने ऐसे लोगों के खिलाफ गंभीर धाराओ में मामला दर्ज कर रासुका के तहत कार्रवाई करने की मांग की। श्री माथुर का कहना था कि प्रदेश में कानून व्यवस्था तार-तार हो रही है। कोई दिन नही जाता जब पुलिस न पिटती हो या किसी महिला के साथ बलात्कार या हत्या की घटना न घटती हो। उन्होंने कहा कि भाजपा/आरएसएस कार्यकर्ताओं ने पुलिस को दो बार पीटा लेकिन उनपर कोई कार्रवाई नहीं हुई ,जिसके कारण शनिवार शाम 100 शैया अस्पताल में अपना मेडिकल कराने गए भाजपाइयों से अस्पताल के वार्ड ब्वाय द्वारा कोविद-19 प्रतिबंधों का पालन करने को जब कहा गया तो पुलिस की उपस्थिति में उसे तथा अन्य अस्पतालकर्मियों की पिटाई पुलिस की उपस्थिति में की गई। यदि पहली घटना के बाद कार्रवाई हो जाती तो अस्पताल की घटना न घटती। गौरतलब है शनिवार को वृन्दावन कुंभ क्षेत्र के देवरहा घाट पर स्नान करने गए आरएसएस के जिला प्रचारक मनोज कुमार को जब पुलिसकर्मियों ने गहरे पानी में जाने से रोका तो उन्होंने उनसे न केवल कहासुनी की बल्कि कुछ समय बाद भाजपा/आरएसएस के कार्यकर्ताओं ने पुलिस के साथ मारपीट की तथा कुछ देर बाद पुलिसकर्मियों की पिटाई नगर निगम चैराहा वृन्दावन में कर दी गई। इसके बाद पुलिस के खिलाफ निलम्बन आदि की उक्त कार्रवाई की गई।
भाइपाइयों द्वारा कानून अपने हाथ में लेने के विरोध में अन्य राजनैतिक दलों में भी रोष है। रालोद के प्रदेश उपाध्यक्ष कुंवर नरेन्द्र सिंह ने कहा कि जिस प्रकार से भाजपा/आरएसएस के कार्यकर्ताओं द्वारा कानून अपने हाथ में लेने के बावजूद उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नही की गई वह लोकतंत्र के खतरे की घंटी है। उन्होंने मांग की कि कानून अपने हाथ में लेने वाले भाजपा/आरएसएस के कार्यकर्ताओं के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए जिससे इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: