January 23, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बर्ड फ्लू: चंबल सेंचुरी मे बढाई गई निगरानी

इटावा:- उत्तर प्रदेश के कानपुर में बर्ड फ्लू का पहला मामला रिर्पोट होने के बाद पडोसी जिले इटावा मे खासी तादात मे ऐहतियात बरतना शुरू कर दिया गया है ।
वन विभाग के अफसर वेटलैंडो का निरीक्षण करने मे जुट गये है वहीं रामसर साइट मे शामिल ऐतिहासिक सरसईनावर झील को वन अधिकारियो ने पशु विशेषज्ञो के साथ अवलोकन कर स्थानीय वासियो से छोटी बडी हर सूचना को मुहैया कराने की अपील करते हुए अपनी अपनी टीमो को सक्रिय कर दिया है।
दिसंबर माह मे रामसर साइट मे शामिल सरसईनावर के वेटलेंड परिसर में प्रवासी पक्षियों को मौत से कई तरह से सवाल खड़े हो गये है। इन मौतो को लेकर स्थानीय लोग वन विभाग की मिली भगत की ओर इशाारा किया था । यहाॅ जिन प्रवासी पक्षियो की मौत हुई थी वो काॅमनटील है। करीब एक दर्जन के आसपास इन पक्षियो की मौत के बाद वन विभाग के अफसरो ने पशु चिकित्सको ने पोस्टमार्टम करा कर शव का आनन फानन मे अंतिम संस्कार भी कर दिया ।
राष्ट्रीय चंबल सेंचुरी पर अधिकारियो ने विशेष तौर पर निगाह रखी हुई है । यहाॅ कई हजार की तादात मे प्रवासी पक्षियो की आमद होती है लेकिन जिस तरह से वर्ड फलू का प्रभाव दिखाई दिया है वो वाकई मे हैरत भरा दिख रहा है ।
कोरोना के बावजूद भी बडी तादात मे बार हैडेड गीज ,ग्रे लेग , पिनटेल, शालवर, स्पाटबिल, ब्रहमनीडक, स्पूनबिल, मर्गेजर, वेडर, गार्गेनी, पेनीकल, पाइड,एवोसिट, रिवर टर्न, सीगल, प्रेटीन कोल की मौजूदगी हर किसी को गदगद कर रही थी लेकिन एकाएक वड फलू के कहर ने चंबल मे प्रवासी पक्षियो पर निगारानी बढाना शुरू कर दिया गया है । पूरी की पूरी चंबल मे कम से कम एक लाख के आसपास प्रवासी पक्षी पहुंचे हुए है । नवंबर से ही पक्षियों के आने की शुरुआत एक अच्छा संकेत है । सेंचुरी में अफगानिस्तान, पाकिस्तान, श्रीलंका तथा म्यांमार से विदेशी पक्षी आते है ।
इटावा के डीएफओ राजेश वर्मा ने वेटलैंड क्षेत्र मे पक्षी के अस्वस्थ और बेहोश मिलने पर तुरंत सूचना देने के निर्देश दिए हैं। उन्होने कहा कि अब जिले में चल रहे पोल्ट्री फार्मों पर भी जांच की जाएगी । बर्ड फ्लू के खतरे को लेकर मुख्यमंत्री के निर्देशो के बाद प्रशासन पूरी तरह हरकत मे आ गया है। डीएफओ राजेश वर्मा सीवीओ विनीत पांडेय ने टीम के साथ सरसईनावर झील का निरीक्षण किया तथा दूरबीन के माध्यम से भी स्थिति देखी। उन्होने चहल कदमी कर रहे पक्षियों को भी देखा । डीएफओ राजेश वर्मा ने जनहित कल्याण समित के अध्यक्ष तिलक सिंह शाक्य से भी झील की जानकारी ली । डीएफओ ने कहा इस समय झील, तालाबों मे देशी व विदेशी पक्षी रह रहे हैं। बर्ड फ्लू की चिंता को लेकर वन विभाग और पशु चिकत्सिा विभाग संयुक्त रूप से एलर्ट मोड पर हैं । सभी कर्मचारियों को पक्षियों पर लगातार निगरानी रखने के नर्दिेश दिये गए हैं यदि कोई पक्षी मृत पाया जाता है तो उसका पोस्टमार्टम कर विसरा सुरक्षित करने के नर्दिेश भी दिए गए साथ ही जिले मे खुले पोल्ट्री फार्मों पर भी दोनो विभागों की टीमें संयुक्त रूप से जांच करेगी। उन्होंने क्षेत्रीय लोगो से भी पक्षी के संदग्धि हालत मे मिलने पर तुरंत जानकारी देने की अपील की। वन रेंज अधिकारी भरथना प्रवल प्रताप सिंह ने पशुधन प्रसार अधिकारी डा. युवराज सिंह के साथ तरैया, अपूरपुरा, नगला मया के तालाबों का निरीक्षण किया और तालाबों मे रह रहे पक्षियों की स्थिति देखी। प्रवल प्रताप सिंह ने बताया ताखा मे झील और बड़े तालाबों पर लगातार विभाग नजर बनाए हुए हैं। ऐसे सभी स्थानो पर निगरानी बढ़ा दी गई है। फिलहाल इस क्षेत्र में कोई पक्षी बीमार नहीं है।

Recent Posts

%d bloggers like this: