अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बिहार: मशहूर सिक्की कला को घर-घर पहुंचाने की मुहिम में जुटा डाक विभाग


दरभंगा:- बिहार की मशहूर सिक्की कला को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अभियान वोकल फॉर लोकल के तहत प्रमोट किया जा रहा है. इसे डाक विभाग ने जन-जन तक पहुंचाने की पहल की है. इसी के तहत निदेशक डाक सेवाएं, उत्तरी प्रक्षेत्र, शंकर प्रसाद ने सिक्की आर्ट के दो विशेष आवरण का दरभंगा के डाक प्रशिक्षण केंद्र के सभागार में विमोचन किया. इसके तहत भारत सरकार के महत्वाकांक्षी कौशल विकास और वोकल फॉर लोकल के क्षेत्र में बिहार के विख्यात सिक्की आर्ट पर सिक्की घास से निर्मित कलाकृति और बिहार के सिक्की घास उत्पाद पर विशेष आवरण का विमोचन किया.
विशेष प्रकार की घास से बनती हैं कलाकृतियां
कार्यक्रम के दौरान शंकर प्रसाद ने कहा कि सिक्की घास शिल्प बिहार और मिथिला के सबसे लोकप्रिय हस्तशिल्प में से एक है, जो इस इलाके में पाई जाने वाली एक विशेष प्रकार की घास से बनाया जाता है. इसे सिक्की कहा जाता है. उन्होंने कहा कि ये उत्पाद प्राकृतिक, दस्तकारी, स्टाइलिश, आकर्षक, सुंदर और किफायती है. उन्होंने कहा कि ये उत्पाद पूरे भारत में निर्मित बहुत ही उच्च गुणवत्ता के व्यापार, पर्यावरण के अनुकूल और वास्तविक हस्तशिल्प उत्पादों का पर्याय है. उन्होंने कहा कि जहां हम स्मारक डाक टिकट या विशेष डाक टिकट जारी नहीं कर सकते वहां विशेष आवरण जारी कर उस तत्थ या उत्पाद को राष्ट्रीय पटल पर लाते हैं. उन्होंने कहा कि इस विशेष आवरण के माध्यम से डाक विभाग सिक्की घास के उत्पादों को देश-विदेश में प्रमोट करेगा.
उत्पाद को लेकर बढ़ेगी चेतना
दरभंगा डाक प्रमंडल के अधीक्षक उमेश चन्द्र प्रसाद ने कहा कि डाक विभाग ने सिक्की ग्रास कला, उत्पाद और सिक्की प्रतीक चिह्न का विमोचन कर इसे राष्ट्रीय पटल पर लाने का काम किया है. अब जनमानस में इस उत्पाद को लेकर और ज्यादा चेतना बढ़ेगी, जिससे यह कुटीर उद्योग जो गांव-गांव में फैला है, उसमें विकास संभव हो पाएगा. उन्होंने कहा कि यह प्रधानमंत्री के वोकल फॉर लोकल के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा.

%d bloggers like this: