अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बिहार: मिथिला विश्वविद्यालय में कोरोना पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन


दरभंगा:- बिहार के ललिल नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा में मंगलवार को ‘भौगोलिक परिदृश्य में वैश्विक कोरोना वायरस महामारी, चुनौतियां एवं अवसर’ विषय पर विडियो माध्यम (वेबिनार) से एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सुरेंद्र प्रताप सिंह ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि वैश्विक महामारी से भारत जैसे विकासशील देश को चिकित्सा व्यवस्था के कारण सामाजिक एवं आर्थिक नुकसान का दंश झेलना पड़ा है। इसके कारण आने वाले वर्षों में देश में जनसंख्या के आकार, लिंग अनुपात तथा वितरण में बदलाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। इस विषय पर चर्चा से आर्थिक नीतियों एवं सामाजिक स्वास्थ्य पर लाभ मिलेगा।
मुख्य अतिथि एवं प्रति कुलपति प्रो. डॉली सिन्हा ने कोरोना तथा जलवायु परिवर्तन के मध्य परस्पर संबंध की बात कही तथा जलवायु के अनुकूल वायरस के प्रजनन-प्रसार पर चिंता व्यक्त की। उन्होंने इस कोरोना काल मे डिजिटल शिक्षा के महत्व पर प्रकाश डालते हुए छात्रों को नवीन तकनीकों से लैस होने के लिए प्रेरित किया।
लंदन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर श्री रोजी कॉक्स ने “कोविड -19 एक नारीवादी मुद्दा है: महामारी के समय की लैंगिक भूगोल” पर व्याख्यान दिया। उन्होंने बतलाया कि किस प्रकार कोरोना का प्रभाव लिंग आधारित होता है तथा इसका महिलाओं एवं बच्चों पर विशेष प्रभाव सर्वाधिक अधिक देखा गया है।
प्रो. राजीव ठाकुर, मिसौरी विश्वविद्यालय, संयुक्त राष्ट्र अमेरिका ने “मिथिला भूमिसंरचना के बदलते परिदृश्य में पारिस्थितिकी तंत्र, ज्ञान अर्थव्यवस्था और एकीकृत आजीविका: मुद्दे, प्रतिक्रियाएं और रणनीतियां” पर व्याख्यान दिया। उन्होंने जलवायु परिवर्तन तथा कोरोना वायरस के पारस्परिक संबंधों प्रकाश पर डाला तथा इस परिदृश्य में मिथिला के आर्थिक तथा सामाजिक पहलुओं पर चिंता व्यक्त की। उन्होंने कोरोना काल में मिथिला क्षेत्र में नॉलेज इकोनॉमी (ज्ञान आधारित रोजगार) के ऊपर बल दिया तथा छात्रों से आग्रह किया कि वे कौशल वृद्धि जैसे पाठ्यक्रमों का लाभ उठाएं। कार्यक्रम में भूगोल विभाग के शिक्षकों सहित 150 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया। समापन संबोधन में दरभंगा जिला के सिविल सर्जन डॉ. एस. के. सिन्हा ने कोविड-19 के समय दरभंगा की अच्छी स्थिति से अवगत करवाया तथा टीकाकरण की तत्परता पर जोर दिया।

%d bloggers like this: