May 12, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बाइडेन ने अर्मेनियाई लोगों पर हुए अत्याचार को नरसंहार बताया

वॉशिंटन:- अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अर्मेनियाई लोगों के खिलाफ बड़े पैमाने पर हुई हत्या को एक जनसंहार बताया, उन्होंने ने कहा, कि ये कदम संयुक्त राज्य अमेरिका और तुर्की के बीच संबंधों को और खराब कर सकता है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, व्हाइट हाउस ने शनिवार को जारी बयान में कहा, अमेरिकी लोग उन सभी अर्मेनियाई लोगों को सम्मानित करते हैं जो आज से 106 साल पहले शुरू हुए नरसंहार में मारे गए थे। उन्होंने कहा कि हम ऐसा किसी को दोष देने के लिए नहीं कर रहे हैं, लेकिन यह सुनिश्चित करने के लिए कह रहे हैं कि ऐसा फिर कभी दोबारा ना हो। बाइडेन तुर्क साम्राज्य द्वारा अर्मेनियाई लोगों के खिलाफ बड़े पैमाने पर हत्या पर नरसंहार शब्द का उपयोग करने वाले पहले अमेरिकी राष्ट्रपति हैं। 2019 में, कांग्रेस के दोनों मंडलों ने अत्याचारों को नरसंहार के रूप में मान्यता देने वाले प्रस्तावों को पारित किया। अमेरिकी मीडिया ने बताया कि बाइडेन ने शुक्रवार को फोन कॉल पर तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन को नरसंहार मान्यता योजना की जानकारी दी। जनवरी में बाइडेन के पद संभालने के बाद से दोनों नेताओं के बीच फोन कॉल पहली बार हुआ था। व्हाइट हाउस ने कहा कि बाइडेन ने एर्दोगन को बताया कि वह सहयोग के विस्तारित क्षेत्रों और असहमति के प्रभावी प्रबंधन के साथ। एक रचनात्मक द्विपक्षीय संबंध बनाना चाहते थे। दोनों नेताओं ने व्हाइट हाउस के अनुसार द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों की पूरी श्रृंखला पर चर्चा करने के लिए जून में नाटो शिखर सम्मेलन के हाशिये पर द्विपक्षीय बैठक आयोजित करने पर सहमति व्यक्त की। अर्मेनियाई लोगों ने लंबे समय से तुर्क युग में नरसंहार के दौरान बड़े पैमाने पर हताहतों के लिए अंतर्राष्ट्रीय मान्यता की मांग की थी, जिसमें उनके लगभग 1.5 मिलियन लोग मारे गए थे।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: