होली के पहले भागलपुर-रांची और सहरसा के लिए ट्रेनें चलेगी। रेलवे बोर्ड ने परिचालन के लिए हरी झंडी दे दी है। भागलपुर-रांची एक्सप्रेस में जनरल, स्लीपर, एसी थ्री, एसी-टू का कोच रहेगा।

रांची एक्सप्रेस का परिचालन शुरू होने से भागलपुर के अलावा, मुंगेर, लखीसराय और जमुई के यात्रियों को सहूलियत होगी। दरअसल, धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन बंद होने के बाद भागलपुर से रांची के बीच सप्ताह में रविवार, बुधवार और शुक्रवार को चलने वाली ट्रेन संख्या 18603/18604 का परिचालन रद कर दिया गया था।

जेडयूआरसीसी के पूर्व सदस्य आशुतोष कुमार ने बताया कि ट्रेन परिचालन के लिए पूर्व रेलवे, पूर्व मध्य रेलवे और दक्षिण पूर्व रेलवे के अधिकारियों के साथ बैठक हुई थी। इसमें टाइमिंग और रूट पर चर्चा हुई। इस बैठक में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने ट्रेन परिचालन शुरू कराने का निर्देश दिया। यह ट्रेन जमालपुर, किऊल, सीतारापुर, धनबाद, चंद्रपुरा, बोकारो होते हुए रांची पहुंचेगी। ट्रेन के खुलने का समय अभी तय नहीं हुआ है।

भागलपुर से दोपहर में खुलेगी सहरसा एक्सप्रेस

पूर्व मध्य रेल सहरसा और भागलपुर के बीच ट्रेन चलाने जा रही है। इस ट्रेन का परिचालन मार्च से शुरू होगा। अधिकारियों के अनुसार सहरसा से सुबह यह ट्रेन 8.40 बजे खुलेगी। सिमरी बख्तियारपुर, कोपरिया, धमारा घाट, बदला घाट, मानसी, खगड़िया, मुंगेर और रतनपुर होते हुए दिन एक बजे भागलपुर पहुंचेगी। वहीं, भागलपुर से यह ट्रेन दोपहर तीन बजे खोले जाने की तैयारी है। सभी स्टेशनों पर रुकती हुई शाम के 7.30 बजे सहरसा पहुंचेगी।

तीन मार्च से चलेगी भागलपुर-रांची एक्सप्रेस

रांची-भागलपुर एक्सप्रेस परिचालन की सहमति रेलवे बोर्ड ने दे दी है। दो मार्च शनिवार से इस ट्रेन का परिचालन होगा। इसमें नीले रंग के जनरल, स्लीपर, एसी थ्री, एसी टू कोच रहेंगे। इस ट्रेन से भागलपुर के अलावा मुंगेर, लखीसराय और जमुई के यात्रियों को सुविधा होगी। यह ट्रेन किऊल, सीतारामपुर, धनबाद, चंदपूरा, बोकारो होते हुए रांची पहुंचेगी।

कब कहां से खुलेगी ट्रेन

रांची से अपराह्न 3.10 बजे खुलेगी और भागलपुर अगले दिन तड़के 3.45 बजे पहुंचेगी। भागलपुर से शाम 4.55 बजे खुलेगी और अगले दिन प्रात: 5.35 बजे पहुंचेगी।

यहां होगा ठहराव

सुलतानगंज, बरियारपुर, जमालपुर, अभयपुर, किउल, जमुई, झाझा, जसीडीह, चितरंजन, विद्यासागर, धनबाद, चंद्रपूरा, बोकारो मूरी होते हुए रांची जाएगी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: