अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

अफगान एजेंडे पर भारत का रुस के साथ काम करना बेहतर : वर्मा


नयी दिल्ली/माॅस्को:- रूस में भारतीय राजदूत वेंकटेश वर्मा ने जोर देते हुए कहा है कि अफगानिस्तान की स्थिति पूरे क्षेत्र के लिए चिंता का विषय है और रूस तथा भारत को एक साथ मिलकर अफगानिस्तान के एजेंडे पर साथ काम करना बेहतर होगा क्योंकि दोनों वहां के घटनाक्रम से प्रभावित हुए हैं।
श्री वर्मा ने बुुधवार को कहा कि पिछले डेढ़ साल में अफगानिस्तान की स्थिति को हल करने के लिए वर्ष 2020 के दोहा समझौते और विस्तारित ट्रोइका की बातचीत समेत अंतरराष्ट्रीय प्रयासों के परिणाम प्रतिभागियों की योजना से बहुत दूर हैं। भारत ने दोहा वार्ता में भाग नहीं लिया है और अभी भी विस्तारित ट्रोइका (रूस, अमेरिका, चीन और पाकिस्तान) का सदस्य नहीं है। श्री वर्मा ने रिया नोवोस्ती से बातचीत में कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और रूसी सुरक्षा प्रमुख निकोले पात्रुशेव के बीच नयी दिल्ली में बातचीत के दौरान तालिबान शासन को मान्यता देने के सवाल सहित अफगान मुद्दे पर चर्चा की जाएगी।
उन्होंने कहा,“अफगानिस्तान की स्थिति पूरे क्षेत्र के लिए चिंता का विषय है। भारत और रूस इन घटनाक्रम से प्रभावित हैं। और जो हो रहा है वह आतंकवादी समूहों, मादक पदार्थों की तस्करी में वृद्धि, संगठित अपराध और शरणार्थी प्रवाह जैसे संभावित सक्रियता के दृष्टिकोण से दोनों देशों के हितों के लिए खतरा है ।”
भारतीय राजदूत ने कहा,“साथ ही, इस बात पर जोर देना जरूरी है कि वहां से गठबंधन सेनाओं के जाने के बाद अब बड़ी संख्या में आधुनिक हथियार कई सशस्त्र समूहों के हाथों में हैं। मुझे लगता है कि हमने पहले ही कम से कम एक सबक सीख लिया है तथा यह भारत और रूस के लिए बेहतर होगा कि वे अफगान एजेंडे पर एक साथ काम करें।”

%d bloggers like this: