January 23, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बेनामी संपत्ति मामला:आयकर विभाग की टीम पहुंची रॉबर्ट वाड्रा के घर,कल 8 घंटे हुई थी पूछताछ

नयी दिल्ली:- आयकर विभाग के अधिकारियों का दल एक बार फिर बेनामी संपत्ति मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा के घर पहुंचा। इससे पहले वाड्रा से उनके दफ्तर पर आठ घंटों तक पूछताछ की गई थी। हालांकि वाड्रा का आरोप है कि इस पूछताछ का मकसद किसानों के आंदोलन जैसे देश से जुड़े ‘वास्तविक मुद्दों’ से ध्यान भटकाना है।

वाड्रा से दफ्तर में हुई थी पूछताछ

पेशे से कारोबारी 52 वर्षीय वाड्रा को आयकर विभाग के कार्यालय पहुंचकर जांच में शामिल होना था लेकिन उन्होंने कोविड-19 से संबंधित दिशानिर्देशों का हवाला दिया। इसके बाद आयकर अधिकारियों का दल सुखदेव विहार स्थित उनके आधिकारिक परिसर पहुंचा और पूछताछ की। सूत्रों ने बताया कि आयकर विभाग के दल की ओर से बेनामी संपत्ति लेनदेन (निषेध) कानून के प्रावधानों के तहत करीब आठ घंटों तक वाद्रा से पूछताछ की गई और उनका बयान दर्ज किया गया। सूत्रों के अनुसार राजस्थान के बीकानेर में वाड्रा से संबंधित एक कंपनी द्वारा कुछ भूखंड खरीदे जाने के संदर्भ में पूछताछ की गई। इसी मामले को लेकर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 2015 में धनशोधन का मामला दर्ज किया था।

वाड्रा ने सरकार पर लगाए आरोप

प्रवर्तन निदेशालय अतीत में इसको लेकर वाड्रा से पूछताछ कर चुका है तथा उसने 2019 में उनकी कंपनी ‘स्काई लाइट हॉस्पिटैलिटी प्राइवेट लिमिटेड’ की 4.62 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की थी। सूत्रों ने बताया कि ईडी ने विदेश में कथित तौर पर कुछ अघोषित संपत्ति होने तथा इस मामले से जुड़े दस्तावेज आयकर विभाग को सौंपे थे ताकि बाद में बने बेनामी संपत्ति कानून के तहत कार्रवाई हो सके। आयकर विभाग के अधिकारियों के दल के जाने के बाद वाड्रा ने संवाददाताओं से कहा कि सभी जानते हैं कि यह राजनीतिक प्रतिशोध है। जब कभी प्रियंका (उनकी पत्नी) किसानों की मदद के लिए कदम बढ़ाती हैं और दूसरे मुद्दे उठाती हैं तो फिर वे (एजेंसियां) किसके पास आएंगी? मैं राजनीतिक मुद्दों में नहीं जाना चाहता, लेकिन वे किसानों के आंदोलन जैसे मुद्दों से ध्यान भटका रहे हैं।

जांच एजेंसियों का स्वागत है: वाड्रा

वाड्रा ने कहा कि उन्होंने जो भी सवाल और नोटिस भेजे थे, उनका हमने जवाब दिया। जांच एजेंसियों का स्वागत है और मैं जवाब देने के लिए तैयार हूं। वाड्रा का कहना था कि आयकर अधिकारियों के सवाल उनकी पिछले पांच-सात वर्षों की गतिविधियों से जुड़े थे। ब्रिटेन में कथित तौर पर कुछ अघोषित आय रखने के आरोप में भी वाड्रा आयकर विभाग की जांच के दायरे में हैं। प्रवर्तन निदेशालय भी धनशोधन विरोधी कानून के तहत उनके खिलाफ इन आरोपों की जांच कर रहा है। कांग्रेस ने कुछ महीने पहले कहा था कि वाड्रा के खिलाफ राजनीतिक प्रतिशोध की भावना से कार्रवाई की जा रही है।

Recent Posts

%d bloggers like this: