January 23, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कोहली ने जिस गेमिंग प्लेटफॉर्म में लगाया पैसा वही कम्पनी बनी BCCI की किट स्पॉन्सर

नई दिल्ली:- भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली के खिलाफ हितों के टकराव का मामला उठ रहा है जिसका कारण है कोहली का उस कम्पनी में निवेश जो भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की किट स्पाॅन्सर बनी है। कोहली ने फरवरी 2019 में मोबाईल प्रीमियर लीग (एमपीएल) की मालिकाना हक वाली गेमिंग प्लेटफॉर्म फर्म में निवेश किया था। बेंगलुरू स्थित इस कंपनी का नाम गैलेक्टस फनवेयर टेक्नोलॉजी है जिसने कोहली को 33.32 लाख रुपए कंपलसरी कन्वर्टिबल डिबेंचर्स (सीसीडी) आवंटित किए हैं। यही कारण है कि कोहली के खिलाफ हितों के टकराव का मामला तूल पकड़ रहा है।
रिपोर्ट्स के मुताबिक फरवरी 2019 में जब कोहली को गैलेक्टस कंपनी ने सीसीडी जारी किए थे तो उन्होंने कॉर्नरस्टोन स्पोर्ट एंड एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड को भी 16.66 लाख रुपए के 34 सीसीडी जारी किए थे। इसी के साथ ही कॉर्नरस्टोन के सीईओ अमित अरुण सजदेह कप्तान कोहली के साथ 2 अन्य फर्म मैग्पी वेंचर्स पार्टनर्स प्राइवेट लिमिटेड और विराट कोहली स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड में भागीदार हैं। सजदेह की कम्पनी कोहली के कर्मशियल राइट्स का प्रबंधन भी करती है।

17 नवंबर 2020 को एमपीएल बना था किट स्पाॅन्सर
बीसीसीआई ने 17 नवंबर 2020 को एमपीएल स्पोर्ट्स को टीम इंडिया का नया किट स्पॉन्सर और आधिकारिक व्यापारिक साझीदार घोषित किया था। इसी के तरह भारतीय टीम की जर्सी पर एमपीएल की ब्रांडिंग भी देखने को मिल रही है। पुरुष टीम के साथ महिला क्रिकेट टीम और अंडर 19 टीम को एमपीएल जर्सी को सपोर्ट कर रही है। कोहली जनवरी 2020 में एमपीएल के ब्रांड एंबेडसर बने थे।
हितों के टकराव का कोई मामला नहीं बनता : सजदेह
सजदेह ने कहा इस बारे में बात करते हुए कहा कि एमपीएल कनेक्शन में कुछ भी गलत नहीं था। उन्होंने कहा, मैंने पहले भी कहा है कि विराट और कॉर्नरस्टोन जितने चाहें उतने व्यवसायों में निवेश करने के लिए स्वतंत्र हैं. जब तक विराट कोहली कॉर्नरस्टोन में निवेश नहीं करते तो हितों के टकराव का कोई मामला नहीं बनता।
बीसीसीआई अधिकारियों ने कही ये बात
इस मामले पर अपनी राय रखते हुए बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि बोर्ड को इस बारे में जानकारी नहीं थी कि कोहली और कॉर्नरस्टोन की एमपीएल में हिस्सेदारी है। वहीं बोर्ड के एक अन्य सदस्य ने कहा, कोहली भारतीय क्रिकेट में एक प्रभावशाली व्यक्ति हैं और इस तरह के इंटर-कनेक्शन सुशासन के लिए आदर्श नहीं हैं।

Recent Posts

%d bloggers like this: