अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

स्पेशल ट्रेन बनाकर अधिक किराया वसूली पर लगाई जाय रोक – गीता


रांची:- सिंहभूम की सांसद सह प्रदेश कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष गीता कोड़ा ने कहा है कि स्पेशल ट्रेन के नाम से रेलवे द्वारा यात्रियों से लिया जा रहा अधिक किराया पर रोक लगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि शुरुआती लॉकडाउन के समय रेल परिचालन बंद था। जिस कारण उस समय केंद्र सरकार की ओर से प्रवासियों को घर तक पहुंचाने के लिए देश के हर राज्य में स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू किया गया था। लेकिन, केंद्र सरकार ने इस आज तक जारी रखा है जो समझ से परे है। सांसद गीता कोड़ा ने बताया कि इस संबंध में केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को पत्र लिखकर स्पेशल ट्रेन बनाकर अधिक किराया की हो रही वसूली को रोकने की अपील की गई है।
सामान्य ट्रेनों का परिचलन शुरू करवाने की मांग की है। सांसद गीता कोड़ा ने पत्र में कहा है कि कोरोना काल में लॉकडाउन के दौरान प्रावासियों को लाने के लिए स्पेशल टेकृन चलाया गया था और अधिक किराया लिये गये थे। लेकिन अब तो रेल का परिचालन
सामान्य रूप से हो रहा है। तो फिर स्पेशल के नाम पर अधिक किराया की वसूली क्यों। उन्होंने बताया कि वर्तमान में झारखंड के रांची रेल मंडल द्वारा 48 मेल एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन हो रहा है। इनमें से 38 ट्रेनों को स्पेशल के रुप में चलाया जा रहा है। अभी स्पेशल ट्रेनों की वस्तुस्थिति यह है कि ट्रेनों का ठहराव कई स्टेशनों पर नहीं हो रहा है।
वहीं, जेनरल क्लास के यात्रियों को एस-टू क्लास का आरक्षित टिकट दिया जा रहा है। स्पेशल ट्रेन चलाये जाने के कारण यात्रियों को 100 से लेकर 800 रुपये तक अधिक किराया का भुगतान करना पड़ रहा है। जबकि, सुविधाएं पहले से कम कर दी गई है। एसी के यात्रियों को बेडशीट और कंबल भी नहीं मिल रहा है। ट्रेनों में पैन्ट्री कार की सुविधा भी बंद कर दी गयी है। इसके पीछे रेलवे के अधिकारियों का तर्क यह है कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए बेडशीट, कंबल व भोजन सहित अन्य सुविधाओं को बंद कर दिया गया है।

%d bloggers like this: