अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

जम्मू-कश्मीर में बिजली गुल होने पर ली गयी सेना की मदद


जम्मू:- जम्मू-कश्मीर बिजली विकास विभाग के लगभग 20,000 कर्मचारियों के हड़ताल पर चले जाने से यहां बिजली गुल होने की समस्या के बाद बिजली को सुचारू रूप से चालू करने के लिये सेना की मदद ली गयी। बिजली कर्मचारियों की सोमवार को लगातार तीसरे दिन भी हड़ताल जारी रही।
बिजली गुल हो जाने से लोग घरों और दुकानों में मोमबत्तियों और लैम्पों जलाते हुए दिखाई दिए। हड़ताल पर गए बिजली कर्मचारियों से अधिकारियों ने हडताल खत्म कराने की बहुत कोशिश की लेकिन वे लोग नहीं मानें।
जम्मू के कृष्णा नगर निवासी राज कुमार ने बताया कि पिछले तीन दिनों से इलाके में बिजली गुल है और इनवर्टर की बैटरी भी खत्म हो गई है। वहीं नायक नगर के भूपेंद्र सिंह ने कहा कि बिजली गुल होने के बाद ऐसा लग रहा है, जैसे जम्मू पौराणिक युग में लौट आया हो। इसी तरह इलाके के अन्य सभी लोग बिजली गुल होने से परेशानी का सामना कर रहे हैं और मोमबत्ती और मिट्टी के तेल वाला लैंप जला रहे हैं।
जम्मू-कश्मीर सरकार ने बिजली आपूर्ति बहाल करने के लिये रविवार को सेना के इंजीनियरों की मदद ली गयी। सरकार और प्रदर्शनकारी कर्मचारियों के बीच हालांकि बातचीत को लेकर गतिरोध जारी रहा।
अधिकारी ने बताया कि 1100 मेगावाट में से सिर्फ 600 मेगावाट बिजली की आपूर्ति की जा रही थी क्योंकि 45 प्रतिशत सिस्टम खराब थे। उन्होंने कहा, “हमने कई इलाकों में बिजली आपूर्ति बहाल करने के लिये अन्य एजेंसियों और सेना की इंजीनियरिंग विंग की मदद ली है।” इसके साथ ही सरकार ने हड़ताली कर्मचारियों से काम पर लौटने का अनुरोध किया है। अधिकारी ने बताया कि सरकार और कर्मचारियों के बीच बातचीत का दौर जारी है।
उल्लेखनीय है कि सरकार के निजीकरण के फैसले के खिलाफ विद्युत विभाग के लाइनमैन से लेकर वरिष्ठ अभियंता तक शनिवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। जिस वजह से कई इलाकों में विद्युत सेवाएं प्रभावित हुई है।

%d bloggers like this: