अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

शराबबंदी के खिलाफ कोई सोचता है तो यह असंभव… जीतनराम मांझी को सीएम नीतीश ने दिया जवाब


पटना:– बिहार के पूर्व सीएम और हम प्रमुख जीतन राम माझी द्वारा शराबबंदी पर टिप्पणी किये जाने के सवाल पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि लोग संकल्प लेते हैं और फिर इस तरह की बात करते हैं। यह विचित्र है। इस तरह की बात से लोगों को बचना चाहिए। शराबबंदी के खिलाफ कोई भी अगर कोई बात सोचता है तो यह होना असंभव है। जनता दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम के बाद पत्रकारों से वे बात कर रहे थे।
वहीं समाज सुधार अभियान को लेकर जिलों के दौरे पर पूछे सवाल का जवाब देते हुए सीएम नीतीश ने कहा कि हम वहां जाकर विकास की योजनाओं की समीक्षा करेंगे। साथ ही स्थानीय लोगों और महिलाओं से बातचीत कर उनसे जानकारी लेंगे और जागरूकता अभियान भी चलाएंगे। नशामुक्ति, दहेज प्रथा उन्मूलन और बाल विवाह ख़त्म करने को लेकर हमलोगों का समाज सुधार अभियान है।
उल्लेखनीय है कि मांझी शराबबंदी कानून के कार्यान्वयन पर लगातार सवाल उठा रहे हैं। मांझी ने दो दिन पूर्व बेतिया में कहा था कि शराबबंदी ठीक है, लेकिन इसमें दो तरह की नीति अपनाई जा रही है। उन्होंने स्पष्ट लहजे में कहा कि धनवान लोग एमपी, एमएलए, ठेकेदार, आईएएस, आईपीएस रात 10 बजे के बाद शराब का सेवन करते हैं। उन्होंने कहा कि शराबबंदी कानून की आड़ में गरीबों और दलितों को पकड़कर जेल में डाला जा रहा है, वह गलत है। आधा बोतल और एक बोतल शराब का सेवन करने पर जेल भेजा जा रहा है। यह न्याय संगत नहीं है। उन्होंने कहा कि सीमित मात्रा में शराब लेना गलत नहीं है।

%d bloggers like this: