May 12, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

रोड शो में बोले अमित शाह- कूचबिहार की घटना दीदी के भाषण का नतीजा

– पश्चिम बंगाल के नदिया जिले के शांतिपुर में अमित शाह ने किया रोड शो

कोलकाता:- पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के पांचवें चरण के मतदान से पहले भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को पश्चिम बंगाल के नदिया जिले के शांतिपुर में रोड शो किया। रोड शो के दौरान कार्यकर्ताओं और समर्थकों का जनसैलाब उमड़ पड़ा। उन्होंने कहा कि मैं ममता दीदी से पूछना चाहता हूं कि क्या आपका भाषण उन 4 लोगों की मौत का जिम्मेदार नहीं है?
जनसभा में शाह ने राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जमकर हमला बोलते हुए कहा कि ममता मौत में भी तुष्टिकरण और वोटबैंक की राजनीति करती हैं। शनिवार को कूचबिहार के सीतलकुची में केन्द्रीय बल की गोली से चार लोगों की मौत के बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का यह पहला बंगाल दौरा है। उन्होंने कहा कि बंगाल के चुनाव के चौथे चरण के मतदान में कल एक दुखद घटना हुई। एक बूथ पर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला किया केंद्रीय सुरक्षा बल के हथियार लूटने का प्रयास किया, सुरक्षा बल को अपने बचाव में गोली चलानी पड़ी इसमें चार लोगों की मृत्यु हुई है। मैं ममता दीदी से पूछना चाहता हूं कि क्या आपका भाषण उन 4 लोगों की मौत का जिम्मेदार नहीं है?
उन्होंने आरोप लगाया है कि केंद्रीय गृह मंत्री चुनाव कार्य में हस्तक्षेप कर रहे हैं और सीधे रूप से चुनाव आयोग को संचालित कर रहे हैं। सबसे पहले मैं आज शांतिपुर की जनता का बहुत-बहुत धन्यवाद करना चाहता हूं कि हमारे प्रत्यासी जगन्नाथ सरकार के समर्थन में जो रोड शो था आ, आज शायद ही शांतिपुरा का कोई व्यक्ति अपने घर में हो। भाजपा को जिताने के लिए पूरा शांतिपुर आज सड़कों पर आया है।
शाह ने कहा कि शनिवार की घटना दुखद है। एक बूथ पर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला किया, जब सीआईएसएफ को अपने बचाव के लिए गोली चलानी पड़ी, जिसमें चार लोगों की मौत हुई। उन्होंने कहा कि जिस तरह से इस घटना का राजनीतिकरण किया जा रहा है, यह दुखद है। उसी बूथ पर आनंद बर्मन की गुंडों ने हत्या कर दी गई, ताकि वहां मतदान न हो। उसी बूथ पर हमला किया गया और सीआईएसएफ पर हमला हुआ। उन्होंने कहा कि ममता दीदी केवल चार लोगों को श्रद्धांजलि देती हैं। मौत में भी तुष्टिकरण और वोट बैंक की राजनीति करती हैं। बंगाल की राजनीति को कितना गिराया है। यह इसका उदाहरण है। मौत किसी की भी हो, राजनीति के परे होनी चाहिए। आनंद बर्मन राजवंशी समाज का है। वह वोट बैंक के अनुकूल नहीं था। इसीलिए ममता बनर्जी ने उसको श्रद्धांजलि नहीं दी है। शाह ने कहा कि मौत पर भी राजनीति करना ममता बनर्जी की आदत है।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: