May 16, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सूर्य के चारों ओर इंद्रधनुष का दिखा अद्भूत नजारा

मौसम वैज्ञानिक ने कहा-सर्कुलर हालो, बारिश का सूचक

रांची:- झारखंड की राजधानी रांची और आसपास के कई हिस्सों में सोमवार को तेज धूप के बीच सूर्य के चारों ओर रंगीन इंद्रधनुष का अद्भूत नजारा देखने को मिला। आम तौर पर धनुषाकार होने वाले इंद्रधनुष ने अपने सात रंगों से सूरज को गोलाकार में घेर लिया था।
रांची स्थित भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के वरीय वैज्ञानिक अभिषेक आनंद ने बताया कि खगोल विज्ञान में इसे ‘‘22 डिग्री सर्कुलर हलो कहते हैं। इसका मुख्य कारण आइस क्रिस्टल पर सूर्य की रोशनी का परावर्तन होना है। आइस क्रिस्टल ऊपरी वायुमंडल में धरती से 18 से 21 किलोमीटर ऊपर संस्पेंडेड फार्म यानी लटकी हुई अवस्था में रहती हैं। ऐसा तब होता है जब सूर्य या चंद्रमा की किरणें बादलों में मौजूदा षट्कोणीय बर्फ क्रिस्टलों से अपवर्तित हो जाती है। यह हाई क्लाउड से बनता है और बारिश का सूचक होता है। उन्होंने बताया कि हलो कई रूप में हो सकते हैं, जिसमें रंगीन या सफेद रिंग से लेकर आर्क्स और आकाश में धब्बे होते हैं। इनमें से कई सूर्य या चंद्रमा के पास दिखाई देते हैं, लेकिन अन्य कहीं या आकाश के विपरीत हिस्से में भी होता है। सबसे प्रसिद्ध प्रभामंडल प्रकारों में वृत्ताकार प्रभामंडल, जिसे प्रकाश स्तंभ भी कहते हैं और यह अत्यंत दुलर्भ होता है, आज इसी तरह का दृश्य देखने को मिला।
कुछ जानकार इस अद्भूत नजारे को लेकर तरह-तरह की व्याख्या भी कर रहे है। कुछ लोग इसे संकट की स्थिति से भी जोड़ कर रहे हैं। वहीं, जानकारों का कहना है कि लेह में बौद्ध धर्मालंबी इस खगोलीय घटना को बहुत शुभ मानते हैं और वहां सरकारी छुट्टी भी घोषित कर दी जाती है। इस करोना महामारी में इसे शुभ संकेत ही माना जा सकता है।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: