अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

पटना सहित 4 जिलों में पटाखे पर रोक के बाद पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने किया अलर्ट !


पटना:- कोविड-19 की दूसरी लहर से उभरने के बाद बिहार सरकार ने पर्व त्योहार मनाने की इजाजत तो दे दी है लेकिन कुछ पाबंदियाें के साथ । राज्य सरकार ने दीपावली पर राज्य के चार जिलों पटना, मुजफ्फरपुर, गया और हाजीपुर में पटाखे की बिक्री और इस्तेमाल पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। इसके साथ ही अन्य जिलों में दीपावली के दिन रात 8 बजे से 10 बजे तक ही पटाखे छोड़ने की अनुमति दी गयी है। ये रोक बिहार पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने लगाया है। बोर्ड के चेयमैन डॉ. एके घोष के अनुसार नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेश पर लोगों की सुरक्षा के लिए यह रोक लगायी गयी है। इन चार शहरों को छोड़ कर बाकी जगह पर रात 8 बजे से 10 बजे तक ही पटाखे छोड़ने की अनुमति है। उन्होंने कहा कि प्रशासन हर जगह उपलब्ध नहीं हो सकती, इसलिए जरूरी है की लोग खुद ही जागरूक हो। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की ओर से दिये गये आदेश पर सभी जिलों के डीएम को पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने पत्र लिखकर दिपावली में पोल्यूशन को नियंत्रित करने को कहा गया है।
उल्लेखनीय है कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने कई शोध के आधार पर यह फैसला लिया है कि दिवाली के दिन जिस तरह से पटाखे छोड़े जाते हैं वह काफी हानिकारक है। स्वास्थ्य से जुड़े जानकारों के अनुसार पटाखों से तरह-तरह के रंग कैडमियम, स्ट्रांसियम, बेरियम, लेड, आर्सेनिक, टीन आदि मिलाने से निकलते हैं। इन रंगीन धुंओं का खतरनाक असर आंखों और लंग्स पर पड़ता है। कोविड महामारी भी लंग्स से जुडी है इसे सर्तक करने के लिए यह निर्णय लिया गया है।
खास बात यह है कि इसके लिए पोल्यूशन कंट्रोल बोर्ड लोगों में जागरुकता के लिए चार नाटक ग्रुप का चयन किया है। ये ग्रुप पूरे पटना में नुक्कड़ नाटक करके लोगों को जानकारी देगा कि पटाखा फोड़ने पर क्यों रोक लगाया गया है। कोविड के बाद पटाखा छोड़ना और अधिक खतरनाक कैसे हो गया है? बोर्ड विज्ञापन के जरिए भी लोगों को जागरुक कर रहा है।
आंकडों के अनुसार पिछले साल दीपावली के बाद पटना में एयर पॉल्यूशन 251, गया में 161 और मुजफ्फरपुर में 301 था। एयर क्वालिटी इंडेक्स शून्य और 50 के बीच अच्छा होता है। 51 और 100 के बीच संतोषजनक, 101 और 200 के बीच मध्यम, 201 और 300 के बीच खराब, 301 और 400 के बीच बहुत खराब और 401 और 500 के बीच एक्यूआई को खतरनाक की श्रेणी में माना जाता है.

%d bloggers like this: