अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

साइकिल चोरी का आरोप लगा युवक को पोल से बांधकर पीटा, देखते रहे लोग


भागलपुर:- बिहार के भागलपुर से मॉब लिचिंग का मामला सामने आया है. भीड़ ने एक युवक पर साइकिल चोरी का आरोप लगाकर उसकी जमकर पिटाई कर दी. इसकी सूचना स्थानीय थाना को भी दी गई, जिसके बाद मौके पर पहुंचकर पुलिस ने आरोपी युवक को भीड़ से छुड़ाकर हिरासत में ले लिया है. युवक की पिटाई का वीडियो वायरल हो रहा है.
वीडियो में आप साफ देख सकते हैं कि एक युवक को ग्रामीणों ने पोल से बांध रखा है. ग्रामीण उस पर साइकिल चोरी करने का आरोप लगा रहे हैं. उसकी पिटाई भी कर रहे हैं. आसपास खड़े कुछ लोगों के हाथों में लाठी-डंडे भी हैं, जिससे उसकी पिटाई की गई है. आरोपी लगभग अचेत अवस्था में है, बावजूद उसे लोग खड़ा करते हैं, फिर उसे ठहर-ठहरकर पीटाई करते हैं. इस पूरी घटना को किसी ने अपने मोबाइल में रिकॉर्ड कर लिया है, जो अब वायरल हो रहा है. घटना जिले के मोजाहिदपुर थाना क्षेत्र के शहबाजनगर की बताई जा रही है. लोगों ने बताया कि पांच दिन पहले एक व्यक्ति की साइकिल चोरी हो गई थी. उस साइकिल चुराने का आरोप भी इसी युवक पर है. फिलहाल पुलिस ने युवक को हिरासत में ले लिया और उसका उपचार कराकर पूछताछ करने में जुटी है.
बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के बेहतर प्रदर्शन नहीं करने के महागठबंधन के अन्य घटक दलों के आरोप पर दास ने कहा, ‘‘विधानसभा चुनाव में महागठबंधन के घटक दलों के बीच सीटों के बंटवारे में कांग्रेस को 26 सीटें ऐसी मिली थीं जहां हम पहले कभी लडे़ नहीं थे और उन सीटों पर राजद को लडना चाहिए था। हमें जीतने वाली सीट नहीं मिली थी।”
विधानसभा चुनाव में राजद के नेतृत्व वाले पांच दलों के महागठबंधन में कांग्रेस और तीन वाम दल शामिल थे। महागठबंधन बहुमत से लगभग 15 सीटें कम ला पाया था। राजद सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी जबकि वाम दलों ने उम्मीदों से बेहतर प्रदर्शन किया। हालांकि, कांग्रेस कमजोर कड़ी के रूप में सामने आई थी क्योंकि वह विधानसभा की 243 सीटों में से 70 पर चुनाव लड़ने के बावजूद 20 से कम सीटें जीत सकी।
बता दें कि हाल ही में कन्हैया कुमार के कांग्रेस में शामिल होने के बाद से पार्टी के राजद के साथ संबंध तनावपूर्ण हो गए हैं। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के पूर्व छात्र नेता कन्हैया को लालू प्रसाद के छोटे बेटे और उनके राजनीतिक उत्तराधिकारी माने जाने वाले तेजस्वी के संभावित प्रतिद्वंद्वी के रूप में देखा जाता है। दास ने इस उपचुनाव में दोनों सीटों पर अपनी पार्टी के उम्मीदवारों की जीत का दावा किया है पर कन्हैया के कांग्रेस में शामिल हो जाने से महागठबंधन में शामिल वामदल इस उपचुनाव में राजद के साथ खड़े नजर आ रहे हैं।

%d bloggers like this: