April 13, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

8 करोड़ की लागत से बने आईटीआई कॉलेज की बदहाल अवस्था उठा रही है शिक्षा पर सवाल

शिक्षक विहीन इस कॉलेज में बिना पढ़ाई व क्लास के ही छात्र हो रहे हैं पास

8 करोड़ की लागत से बने आईटीआई कॉलेज की बदहाल अवस्था उठा रही है शिक्षा पर सवाल झारखंड सरकार भले ही उच्च शिक्षा को बढ़ावा देते हुए गरीब बच्चों को शिक्षित कर रोजगार से जोड़ने के लाख दावे कर ले। किंतु हकीकत कुछ और ही बयान कर रही है। इसकी बानगी देखनी है तो आप चतरा जिला मुख्यालय से 22 किलोमीटर दूरी पर स्थित सिमरिया प्रखंड के इचाक कला गांव स्थित आईटीआई कॉलेज को देख सकते हैं।
दरअसल यहां छात्रों का नामांकन तो किया जाता है, लेकिन पढ़ाई नहीं होती है। बिना ज्ञान पाए ही छात्रों का परीक्षा फार्म भी भरवाएं जाते है। यानी बिना पढ़ाई व क्लास के ही छात्र पास कर दिए जाते हैं। चार साल बीत जाने के बावजूद इस संस्थान में एक भी शिक्षक की नियुक्ति नहीं हो सकी है। छात्र औद्योगिक शिक्षा से दूर हैं। यहां प्रत्येक साल 160 छात्रों का नामांकन का लक्ष्य है और इस संस्थान में छात्र जैसे- तैसे पढ़ाई कर सत्र पूरा कर रहे हैं। वही संस्थान के छात्र इलेक्ट्रिशियन, फिटर, डीजल, मैकेनिक और वेल्डर की प्रायोगिक प्रशिक्षण से काफी दूर हैं। बरहाल यहां रखे प्रायोगिक सामग्री जंग खाकर दम तोड़ने लगे है। औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान में 33 पद खाली पड़े हैं। जिनमें शिक्षक, गार्ड, क्लर्क और प्यून आदि शामिल हैं। स्थानीय लोगों को भरोसा था कि आईटीआई कॉलेज खुलने से यहां के छात्र-छात्राओं को पढ़ने की सुविधा मिलेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। लोगों का मानना है कि सरकार की शिक्षा योजना विफल हो रही है। सत्यानंद भोक्ता ने भी निरीक्षण के दौरान कॉलेज में पढ़ाई नहीं होने पर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने तंत्र की उपेक्षा का दंश झेल रहे छात्रों की कठिनाइयों को देख कहा कि जल्द ही अब आईटीआई कॉलेज में शिक्षकों की बहाली कर छात्रों की पढ़ाई शुरू कराई जाएगी।
गौरतलब है कि तकरीबन 8 करोड़ की लागत से बने इस आईटीआई कॉलेज का विधिवत उद्घाटन 12 नंवबर 2016 को चतरा सांसद सुनील सिंह व पूर्व विधायक गणेश गंझू द्वारा किया गया था। संस्थान खुलने से लोगों में उम्मीदों की किरण जगमगाई थी, किंतु छात्रों की मुरादे पूरी ना होने से न सिर्फ शिक्षा पर सवाल उठ रहे हैं बल्कि छात्रों का भविष्य अधर में लटकने से लोगों में खासा आक्रोश है।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: