November 25, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

जयंत सिन्हा कंपनियों के प्रवक्ता बन अपनी राजनीतिक रोटी सेंकने में लगे हैं-अंबा प्रसाद

रांची:- कांग्रेस विधायक अंबा प्रसाद ने कहा है कि बड़कागांव की जनता के प्रोत्साहन से उन्हें जनहित के कार्य करने का हौसला मिलता है। परन्तु स्थानीय सांसद जयंत सिन्हा जी कंपनियों के प्रवक्ता बन अपनी रोटी सेंकने के लिए यहां की जनता के विरुद्ध ही काम कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि एनटीपीसी केंद्र के अंदर आती है और यहां के सांसद केंद्र में मंत्री रह चुके हैं। अगर वो केंद्र सरकार से एनटीपीसी पर दबाव दिलवाते तो जनता को इतना संघर्ष नहीं करना पड़ता। क्षेत्र के मुआवजे और रोजगार को लेकर आज तक सांसद जी के द्वारा कोई पहल नहीं की गई है। उसके उल्टा उन्होंने एनटीपीसी मुख्यालय को केंद्र से दबाव देकर विस्थापित एवं प्रभावितों को जायज मुआवजा एवं रोजगार देने से मना करवा दिया ताकि मुझे और राज्य सरकार को इसका श्रेय ना मिल पाए। साथ ही खुद और अपने कार्यकर्ताओं को मेरे खिलाफ दुष्प्रचार में लगा दिया है।परंतु उनके इस कार्य से मैं विचलित होने वाली नहीं हूं। एनटीपीसी पर जनता के विरुद्ध दबाव का पुख्ता प्रमाण समय आने पर दूंगी और जनता के न्यायालय में उन्हें खड़ा करूंगी।

कांग्रेस विधायक ने कहा कि सांसद जयंत सिन्हा को उनके विरुद्ध अनर्गल बातें करना शोभा नहीं देती है। उन्हें मेरे द्वारा विस्थापितों और प्रभावितों के लिए किए जा रहे संघर्ष और जनता से मुझे मिल रहे समर्थन से डर गए हैं और निचले स्तर की राजनीति पर उतर आए हैं। उनको अपने गिरेबान में झांक कर चिंतन करने कि आवश्यकता है कि उनको पिछली केंद्र सरकार में वित्त राज्य मंत्री पद से क्यूं हटाया गया और वर्तमान सरकार में उनको कोई भी मंत्री पद क्यूं नहीं दिया गया।
जब उनके क्षेत्र के स्थानीय लोग और बाहर से आए प्रवासी श्रमिक लॉकडॉउन के कारण अनाज की कमी से जूझ रहे थे, घर वापस आने के लिए अपनी जान तक दे रहे थे तो जयंत सिन्हा जी दिल्ली में चैन से सोए थे। प्राचीन रोम का राजा नीरो बांसुरी बजा रहा था जब पूरा रोम जल रहा था। सांसद जी कोरोना आपदा के समय हजारीबाग क्षेत्र के नीरो निकले। ओछी राजनीति करने के बजाय अगर वह कोरोना महामारी के दरमियान क्षेत्र के जनता के बीच रहते , प्रवासियों को वापस आने में मदद करते, 1 किलो चावल भी बांटते, अपने क्षेत्र में कार्य करते तो विस्थापन की समस्याओं को लेकर जनता को इतना संघर्ष नहीं करना पड़ता।
बड़कागांव विस्थापन से संबंधित मुख्यमंत्री द्वारा घोषणा पर विधायक अंबा प्रसाद ने कहा भूमि का मुआवजा, घर का मुआवजा एवं पेंशन की घोषणा घोषणा से पूरी तरह संतुष्ट नहीं हूं। क्षेत्र का सबसे मुख्य मुद्दा रोजगार है जिसके लिए वह बहुत चिंतित है और उसके लिए लगातार मुख्यमंत्री , अन्य मंत्रियों, अपनी पार्टी एवं अन्य क्षेत्र में हैं जनता के साथ है, उनके हर संघर्ष में सहयोग कर रही हैं।

Recent Posts

%d bloggers like this: