November 26, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

नेतरहाट विद्यालय की व्यवस्था अपनाकर किसी भी संस्थान में जान फूंकी जा सकती है -हेमंत सोरेन

नेतरहाट आवासीय विद्यालय की तरह अन्य विद्यालयों को भी बेहतर बनाने का प्रयास कर रही सरकार

नेतरहाट:- नेतरहाट आवासीय विद्यालय ना सिर्फ झारखंड बल्कि देश के गौरवशाली और प्रख्यात विद्यालय के रूप में जाना जाता है । इस विद्यालय के गौरव को बनाने और बताने की जरूरत नहीं है । सिर्फ थोड़ा आकार देने की जरूरत है, ताकि विश्व के पटल पर इस विद्यालय को पहचान दिलाई जा सके । मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज नेतरहाट आवासीय विद्यालय परिसर का अवलोकन किया । विद्यालय परिवार की ओर से आयोजित अभिनंदन समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा कि स्थापना काल से ही यह विद्यालय नई ऊंचाइयों को छू रही है । इस विद्यालय की अपनी एक अलग ही पहचान है । बस इस पहचान को आगे भी कायम और संरक्षित रखना है । इस विद्यालय की समृद्ध व्यवस्था को बनाए रखने में सरकार पूरा सहयोग करेगी ।

अभिनंदन समारोह में प्राचार्य संतोष कुमार सिंह ने विद्यालय परिवार की ओर से मुख्यमंत्री और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती कल्पना सोरेन को स्मृति चिन्ह प्रदान किया । वहीं, विद्यालय के ऑडिटोरियम परिसर में मुख्यमंत्री ने पौधरोपण किया और लाइब्रेरी का भ्रमण किया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि लंबे अर्से बाद इस विद्यालय में आने का मौका मिला है । काफी समय से यहां आने की दिली ख्वाहिश थी , जो आज पूरी हुई । दूसरी बार यहां आकर काफी अच्छा लग रहा है । वैसे भी नेतरहाट की मनोरम वादियों में जो सैलानी आते हैं, उनकी यह यात्रा तभी पूरी मानी जाती है , जब उसने नेतरहाट आवासीय विद्यालय को देखा हो । यह विद्यालय हमारे राज्य की शान है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि नेतरहाट आवासीय विद्यालय अपने आप में अनूठा है । वर्ष 1954 में स्थापना के बाद से ही यह विद्यालय हर क्षेत्र में नए कीर्तिमान स्थापित करता आ रहा है । इस विद्यालय का कैंपस 460 एकड़ में फैला हुआ है , जो कि देश में शायद ही किसी विद्यालय का होगा । यहां विद्यार्थियों को शिक्षा के साथ-साथ अन्य क्षेत्रों में भी पारंगत बनाया जाता है । इस विद्यालय मैं किसी चीज की कोई कमी नहीं है । अपनी ताकत लेकर यह स्थापित है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस विद्यालय ने समावेशी शिक्षा के क्षेत्र में अलग पहचान बनाई है । यहां के विद्यार्थी सिर्फ किताबी कीड़ा नहीं होते हैं। वे जब इस विद्यालय से निकलते हैं तो हाथों में हुनर होता है , जिसकी बदौलत वे विभिन्न क्षेत्रों में ना सिर्फ अपनी अलग पहचान बनाते हैं बल्कि दूसरों को भी उस काबिल बनाते हैं । अनुशासन और बेहतर व्यवस्था के लिए के लिए यह विद्यालय जाना जाता है ।
मुख्यमंत्री ने इस विद्यालय की तारीफ करते हुए कहा कि यहां के विद्यार्थी हर क्षेत्र में अपना परचम लहरा रहे हैं । ये अपने साथ-साथ परिवार, समाज, राज्य और देश का भी नाम रोशन कर रहे हैं । ऐसे संस्थानों को संरक्षित करने और बढ़ावा देने के लिए सरकार कोई कसर नहीं छोड़ेगी ।
मुख्यमंत्री ने कहा कि लोग अक्सर सरकारी व्यवस्थाओं पर सवाल खड़ा करते हैं । लेकिन इस स्कूल की व्यवस्था मिसाल है। यहां की व्यवस्था को अपनाकर किसी भी संस्थान में जान फूंका जा सकता है ।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज नेतरहाट जैसे विद्यालयों की जरूरत है । इस विद्यालय की उर्जा का इस्तेमाल अन्य विद्यालयों की व्यवस्था को बेहतर और उत्तम बनाने में किया जा सकता है । सरकार इस दिशा में बहुत जल्द बड़े कदम उठाने जा रही है ।

Recent Posts

%d bloggers like this: