December 5, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

काले कानून के खिलाफ कांग्रेस ट्रैक्टर रैली, किसान बचाओ, खेती बचाओ यात्रा

रांची:- अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के निर्देशानुसार केंद्र की भाजपा सरकार के द्वारा तीन किसान विरोधी कानून- किसान उत्पादन व्यापार और वाणिज्य ( संवर्धन और सुविधा ) कानून 2020, किसान सशक्तिकरण और संरक्षण मूल्य आश्वासन कृषि सेवा कानून 2020 और आवश्यक वस्तु संशोधन कानून 2020 संसद से पारित कर हरित क्रांति को विफल करने की साजिश के विरोध में चल रहे चरणबध्द आंदोलनों की कड़ी में तयशुदा कार्यक्रम भारत सरकार के द्वारा संसद से पारित काले कानून के विरोध में झारखण्ड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सह वित्तमंत्री झारखण्ड सरकार के नेतृत्व में ट्रैक्टर रैली, किसान बचाओ, खेती बचाओ यात्रा निकाला गया, जो नामकुम रामपुर स्थित स्व० सावना लकड़ा चैक से आरंभ होकर सदाबहार चैक से घाघरा डोरंडा होते हुए पुराना विधानसभा मैदान पहुंचा।
स्व सावना लकड़ा चैक पर सर्वप्रथम प्रदेश अध्यक्ष सह वित्त मंत्री डॉ रामेश्वर उराँव व नेता विधायक दल सह ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम के द्वारा स्व सावना लकड़ा के चित्र पर पुष्प अर्पित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। इस मौके पर स्व सावना लकड़ा की पत्नी सीता लकड़ा भी उपस्थित थीं। कार्यक्रम शुभारंभ स्थल पर एक सभा भी हुई, जिस कार्यक्रम का संचालन ग्रामीण जिलाध्यक्ष सुरेश बैठा ने किया, स्वागत भाषण खिजरी विधायक राजेश कच्छप ने किया।
झारखण्ड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सह वित्त एवं खाध आपूर्ति मंत्री डॉ रामेश्वर उराँव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं उनकी सरकार ने तीन काले कानूनों को संसद से पारित कर देश के 62 करोड़ अन्नदाताओं व खेत खलिहानों पर सीधा हमला कर अपने पूंजीपति मित्रों का हित साधने तथा देश मे वर्षों पूर्व कांग्रेस पार्टी द्वारा समाप्त किये गए जमींदारी प्रथा को पुनः बहाल करने एवं जमाखोरों मुनाफाखोरों को बढ़ावा देने का काम किया है । मोदी सरकार के दोनों कार्यकाल में देश के अर्थव्यवस्था की रीढ़
कृषि गहरे संकट में चला गया है। समय पर न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिलने से किसानों पर कर्ज का बोझ बढ़ता चला गया। नोटबन्दी जैसे कदम ने नकद आधारित कृषि अर्थव्यवस्था को झकझोर कर रख दिया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने तीन काले कानूनों माध्यम से किसान, खेत मजदूर छोटे दुकानदार, मंडी मजदूर एवं कर्मचारियों की आजीविका पर सीधा एवं क्रूर हमला किया है। मोदी सरकार का यह प्रयास देश की हरित क्रांति पर हमला है। किसानों से एमएसपी छीन जाएगी। उन्हें कांट्रेक्ट फार्मिंग के जरिए पूंजीपतियों का गुलाम बनने पर मजबूर किया जाएगा। न दाम मिलेगा, न सम्मान, किसान अपने ही खेत पर मजदूर बन जाएगा। डॉ रामेश्वर उराँव ने कहा कि भाजपा द्वारा देश के ऊपर जबरन थोपा गया यह तीन काला कृषि कानून ब्रिटिश राज की याद दिलाता है। कांग्रेस पार्टी देश के अन्नदाताओं के साथ खड़ी है और 02 अक्टूबर से लेकर लगातार चरणबद्ध तरीके से आंदोलनरत है, पहले सत्याग्रह उपवास, जिला एवं प्रखंड स्तर पर धरना प्रदर्शन, किसान सम्मेलन, हस्ताक्षर अभियान और आज टै्रक्टर रैली, किसान बचाओ-खेती बचाओ यात्रा का कार्यक्रम हो रहा है यदि केन्द्र सरकार इन काले कानूनों को वापस नहीं लेगी तब तक हमारा आंदोलन चलता रहेगा।
कांग्रेस नेता विधायक दल सह मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि हम किसानों के साथ अन्याय नहीं होने देंगे। बहुमत के नशे में अन्नदाता किसान की बात सुनना तो दूर, भाजपा एवं उनके एनडीए के साथियों के द्वारा संसद में उनके नुमाईंदो की आवाज को दबाया जा रहा है और सड़कों पर किसान मजदूरों को लाठियों से पिटवाया जा रहा है। संसद में संविधान का गला घोंटा गया और खेत खलिहान में किसानों-मजदूरों की आजीविका पर सीधा हमला किया गया है।
उन्होंने कहा कि मोदी सरकार किसानों को क्यों खून के आँसू रुला रहे है ं? कोरोना संकट व भाजपा के गलत नीतियों के कारण दम तोड़ती अर्थव्यवस्था को सहारा देनेवाले व देश को सही मायने में आत्मनिर्भर बनानेवाले कृषि क्षेत्र को गलत नीतियों व काले कानूनों के कारण लगातार बर्बाद हुआ है इन्होंने देश के अन्नदाताओं को ऐसे हालात में पहुंचा दिया है जिससे सरकारी आंकड़ों की ही मानें तो वर्ष 2014 से 2019 के बीच 67,626 किसानों ने आत्महत्या की है ।
सभा को संबोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष केशव महतो कमलेश, राजेश ठाकुर, मानस सिन्हा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ही ऐसी पार्टी है जो किसानों के दर्द को समझती है। देश के कई राज्यों में कांग्रेस द्वारा सत्ता संभालते ही किसानों को राहत देने के लिए तत्काल कर्ज माफी की गई झारखण्ड में भी हमलोगों ने इस कार्य को आरम्भ कर दिया है कोरोना संकट के वजह से इसमे विलंब जरूर हुआ है पर इस कार्य को हमलोगों ने आरम्भ कर दिया है। किसान विरोधी कानून के वापस लिये जाने तक चरणबद्ध तरीके से पार्टी का आंदोलन जारी रहेगा। ट्रैक्टर रैली में कार्यकारी अध्यक्ष मानस सिन्हा ने स्वंय ट्रेक्टर चलाकर पुराना विधानसभा मैदान तक लेकर पहुंचे।
सभा को जोनल कोर्डिनेटर भीम कुमार, विधायक दीपिका पांडेय सिंह, राजेश कच्छप, मोर्चा संगठन प्रभारी रवीन्द्र सिंह, प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद, आलोक कुमार दूबे, लाल किशोर नाथ शाहदेव, डॉ राजेश गुप्ता, डॉ राकेश किरण महतो, प्रभाकर तिर्की, अमूल्य नीरज खलखो, महिला कांग्रेस अध्यक्ष गुंजन सिंह, अल्पसंख्यक कांग्रेस अध्यक्ष शकील अख्तर अंसारी, अनुसूचित जाति विभाग के उपाध्यक्ष केदार पासवान, अमिताभ रंजन, आदित्य विक्रम जायसवाल ने भी संबोधित किया।
टै्रक्टर रैली का पूरे रास्ते जगह-जगह स्थानीय कांग्रेस इकाईयों के द्वारा स्वागत किया गया। पूरे ट्रैक्टर रैली का सीधा प्रसारण सोशल मीडिया के टीम के द्वार प्रभारी गजेन्द्र सिंह के नेतृत्व में प्रसारण किया गया। पुराना विधानसभा मैदान में रांची महानगर जिला कांग्रेस अध्यक्ष संजय पांडेय के द्वारा यात्रा में शामिल कांग्रेसजनों का स्वागत किया गया जहां पुनः प्रदेश अध्यक्ष डॉ रामेश्वर उरांव ने काला कृषि कानून वापस लिये जाने तक आंदोलन जारी रखने की बात कही। तथा ट्रैक्टर रैली में शामिल सभी कांग्रेसजनों की हौसला अफजाई की।
आज के कार्यक्रम में शशिभूषण राय, जगदीश साहु, सलीम खान, विनय सिन्हा दीपू, इन्द्रजीत सिंह, एनूल हक अंसारी, अख्तर अली, दीपक ओझा, जाकीर अंसारी, अशोक मिश्रा, अर्चना मिश्रा, सुरेश साहु, राजेन्द्र मुंडा, हरीमोहन महतो, गौतम उपाध्याय, बॉबी खान, कमल ठाकुर, विशाल सिंह, सन्नी टोप्पो, बेलस तिर्की, नीरज टोप्पो, भानू प्रताप बडाईक, प्रभात कुमार, चन्द्र रश्मि, सुन्दरी तिर्की, जितेन्द्र त्रिवेदी, पिंकी सिंह, अनिता सिन्हा, कंचन चैधरी सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसजन शामिल थे।

%d bloggers like this: