December 3, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कोरोना से जीता लोकतंत्र, मतदाताओं के उत्साह से अंतिम चरण में पड़े सबसे अधिक 57.91 प्रतिशत वोट

पटना:- कोरोना महामारी जैसी विषम परिस्थिति में देश के पहले बिहार विधानसभा चुनाव में संक्रमण की चुनौती पर लोकतंत्र ने अपनी जीत की मुहर लगा दी और जनतंत्र के लिए मतदाताओं के असीम उत्साह की बदौलत दो अन्य चरण के मुकाबले आज तीसरे एवं अंतिम चरण के मतदान में सबसे अधिक लगभग 57.91 प्रतिशत वोट पड़े।
मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एच. आर. श्रीनिवास ने शनिवार को मतदान समाप्त होने के बाद आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कोरोना महामारी के इस दौर में लोकतंत्र की मजबूती एवं निरंतरता के लिए बिहार विधानसभा चुनाव का आयोजन निश्चित रूप से एक बड़ी चुनौती रही। इस चुनौती पर जीत हासिल करने के लिए लाखों मतदानकर्मियों ने रात-दिन काम किया और उस रास्ते को तैयार किया जो बिहार में और इस देश में लोकतंत्र की जड़ों को मतबूत करेगा। उन्होंने कहा कि अंतिम चरण में 15 जिले के 78 विधानसभा सीट के लिए संपन्न मतदान में लगभग 57.91 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। वहीं, वाल्मीकिनगर लोकसभा सीट के उप चुनाव के लिए 56.02 प्रतिशत मत पड़े हैं जबकि वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में यहां 61.89 प्रतिशत मतदान हुआ था।
श्री श्रीनिवास ने बताया कि मतदान समाप्त होने के बाद पश्चिम चंपारण में मत का प्रतिशत 56.02, पूर्वी चंपारण में 57.16, सीतामढ़ी में 55.84, मधुबनी में 56.36, सुपौल में 61.19, अररिया में 54.58, किशनगंज में 62.55, पूर्णिया में 59.25, कटिहार में 61.57, मधेपुरा में 59, सहरसा में 60.20, दरभंगा में 54.91, मुजफ्फरपुर में 57.57, वैशाली में 52.68 और समस्तीपुर में 58.15 रहा है। उन्होंने बताया कि सुरक्षा कारणों से पश्चिम चंपारण जिले के वाल्मीकिनगर एवं रामनगर (सुरक्षित) तथा सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर और महिषी विधानसभा क्षेत्र में मतदान अपराह्न चार बजे समाप्त हो गया। मतदान समाप्त होने पर वाल्मीकिनगर विधानसभा क्षेत्र में 49.80 प्रतिशत एवं रामनगर में 46 प्रतिशत, सिमरी बख्तियारपुर में 56.95 प्रतिशत और महिषी में 57.83 प्रतिशत वोटिंग हुई है। साथ ही नालंदा जिले के हिलसा विधानसभा क्षेत्र के मतदान केंद्र संख्या 52, 52 (क) और 55 पर हुए पुनर्मतदान में 55.09 प्रतिशत लोगों ने वोट किया है। ये आंकड़े अनुमानित हैं। अभी अंतिम आंकड़े आने शेष हैं।
मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने बताया कि वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव इन 15 जिलों में कुल 60.51 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। पश्चिम चंपारण में 63.62 प्रतिशत, पूर्वी चंपारण में 60.83, सीतामढ़ी में 55.82, मधुबनी में 55.78, सुपौल में 61.34, अररिया में 61.68, किशनगंज में 66.29, पूर्णिया में 63.63, कटिहार में 66.65, मधेपुरा में 60.34, सहरसा में 54.67, दरभंगा में 55.75, मुजफ्फरपुर में 60.84, वैशाली में 57.28 और समस्तीपुर में 59.19 प्रतिशत मतदान हुआ था।

Recent Posts

%d bloggers like this: