December 2, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

उलीडीह पुलिस ने किया बाइक चोर गैंग का पर्दाफाश,तीन गिरफ्तार, आधा दर्जन मोटरसाइकिलें बरामद

जमशेदपुर:- उलीडीह पुलिस ने शहर में सक्रिय एक बाइक चोर गिरोह का पर्दाफाश कर उसके तीन सदस्यों को गिरफ्तार करने में सफलता पाई है। जबकि एक भागने में सफल हो गया है। गिरफ्तार किए गए राजा बनर्जी,सनी कुमार और दीपू गोराई तीनों संकोसाई रोड नंबर 4 के रहने वाले हैं। जबकि उनका सहयोगी डेविड टोप्पो फरार होने में सफल हो गया है। गिरफ्तार किए गए अपराधियों की निशानदेही पर पुलिस पुलिस की एक टीम ने पश्चिम बंगाल के पुरूलिया जिला अंतर्गत बड़ा बाजार में छापेमारी कर निश्चित पुर गांव की झाड़ियों में छुपा कर रखा गया 4 बाइक बरामद किया है। जबकि दो बाइक डेविड के घर के बगल में स्थित झाड़ियों में छुपा कर रखी गई थी। सभी बाईके मानगो और आसपास के इलाकों से चोरी की गई थी। इस संबंध में जानकारी देते हुए थाना प्रभारी ने बताया के गुप्त सूचना के आधार पर गिरफ्तार किए गए अपराधियों ने पुलिस के समक्ष दिए बयान में कहा कि वे लोग घात लगाकर मोटरसाइकिल की निगरानी करते थे। बाइक के मालिक पर नजर रखी जाती थी। उसके बाद मास्टर की से बाइक का लॉक खोलकर उसे गायब कर दिया जाता था। पूछताछ में तीनों ने बताया कि लंबे समय से वे लोग बाइक चोरी की घटनाओं को अंजाम देते हैं और चोरी की बाइकों को पश्चिम बंगाल के पुरुलिया और मेदिनीपुर क्षेत्रों में बेच दिया जाता है। बाइक की कीमत 7 से 8 हजार मिलती है। बाइक का नंबर प्लेट बदलकर खरीददार को कुछ दिनों के बाद ट्रांसफर पेपर देने का वादा भी किया जाता है। हालांकि बाद में ट्रांसफर पेपर टालमटोल कर नहीं दिए जाते हैं। पुलिस का कहना है बाइक चोरी करने वाला यह गैंग इंजन और चेचिस पर लगे नंबर को भी मिटा देता है। ग्राहकों की तलाश की जाती है और बड़े ही सोच समझ कर मोलभाव कर उसे बेच दिया जाता है। इस बात की कोशिश की जाती है कि बाइकों की कीमत अधिक से अधिक मिले,लेकिन बिना कागजात के बाइक जल्दी कोई लेने को तैयार नहीं होता। बाद में कागज देने का आश्वासन देने पर जो मान जाता है,उसे बाईके बेच दी जाती है। उलीडीह पुलिस का का कहना है कि गैंग के फरार सदस्य डेविड टोप्पो की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। उसकी गिरफ्तारी के बाद चोरी की और बाइकों का भी पता चल सकता है। पुलिस बरामद बाइकों की पहचान का प्रयास कर रही है। बाइक मालिक का पता लगने के बाद गाड़ी उन्हें सौंपी जाएगी।

Recent Posts

%d bloggers like this: