November 24, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

आईएमएफ की दुनियाभर की सरकारों को सलाह, इकोनॉमी में रिकवरी के लिए एक और राहत पैकेज दें

नई दिल्‍ली:- इंटरनेशनल मोनटरी फंड की चीफ इकोनॉमिस्ट गीता गोपीनाथ ने दुनियाभर की सरकारों से इकोनॉमी में रिकवरी के लिए और राहत पैकेज देने का आग्रह किया है, जो कोविड-19 महामारी के कारण लिक्विडिटी ट्रैप में फंसी हुई है।
गीता गोपीनाथ ने कहा कि पहली बार 60 फीसदी ग्लोबल इकोनॉमी के सेंट्रल बैंकों की ब्याज दरें 1 फीसदी से भी नीचे आ गई है, जिसमें 97 फीसदी एडवांस्ड इकोनॉमी शामिल है। जबकि, 20 फीसदी सेंट्रल बैंकों की ब्याज दरें निगेटिव हो गई हैं। उन्होंने आगे कहा कि ब्याज दरों में भारी गिरावट के बावजूद भी सेंट्रल बैंकों ने कठिन समय के लिए ब्याज दरों में और कटौती के लिए भी तैयार हैं। सोमवार को गोपीनाथ ने कहा कि वर्तमान में दुनियाभर की इकोनॉमी लिक्विडिटी ट्रैप में हैं, जहां मोनेटरी पॉलिसी के प्रभाव सीमित हैं। इसलिए हमें और योजनाओं के निर्माण पर सहमत होने की आवश्यकता है।

नकदी की समस्या

उन्होंने दुनियाभर की फिस्कल अथॉरिटी को नकदी ट्रांसफर कर डिमांड को बढ़ाने की सलाह दी है। क्योंकि, इससे खपत में ग्रोथ देखने मिलेगी। गोपीनाथ ने कहा कि मेडिकल सुविधाओं, डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर और पर्यावरण सुरक्षा में बड़े स्तर पर निवेश की बात कही। इससे नए रोजगार के अवसर बनेंगे और प्राइवेट इन्वेस्टमेंट को भी प्रोत्साहन मिलेगा। साथ ही रिकवरी की नींव मजबूत होगी। हालांकि, राहत पैकेज हमेशा बेहतर विकल्प नहीं होता है। क्योंकि, अलग-अलग क्षेत्रों में खर्च, इकोनॉमी ग्रोथ के लिए सार्वजनिक निवेश को बढ़ाना होगा।

इकोनॉमी में गिरावट

पिछले महीने वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक रिपोर्ट के जारी किया गया था। इसमें आईएमएफ ने 2020 के लिए ग्लोबल इकोनॉमी में 4.4 फीसदी की गिरावट का अनुमान आशंका जताई है। आईएमएफ ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण आर्थिक मुश्किलें लंबे समय तक रहेगी।

Recent Posts

%d bloggers like this: