November 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मथुरा: नंदमहल मंदिर में धोखा देकर पढ़ी नमाज, तस्वीरे वायरल होने पर मुकदमा दर्ज

मथुरा:- मथुरा में चौरासी कोस परिक्रमा के बहाने दिल्ली के चार युवकों में से दो मुस्लिम युवकों ने मथुरा के नदंगाव मंदिर में विगत दिनों नमाज पढ़ी। इसका वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मंदिर के गोस्वामियों ने रविवार की देर रात बरसाना थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई है। हिन्दू संगठनों ने उनकी गिरफ्तारी की मांग की है। थाना बरसाना प्रभारी ने सोमवार को बताया कि मंदिरों में नमाज पढ़ने की अनुमति नहीं है। गोस्वामियों की ओर से मिली तहरीर के आधार चारों युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। जल्द ही उनकी गिरफ्तारी की जायेगी। दरअसल चार दिन पूर्व चौरासी कोस यात्रा के दौरान दिल्ली निवासी फैजल खान, मोहम्मद चांद, नीलेश गुप्ता और आलोक रत्न साइकिल से बरसाना के नंदगांव कस्बा स्थित नंदमहल मंदिर पहुंचे। यहां उन्होंने श्रीराम चरित मानस की चौपाईयां भी सुनाई। ठाकुर जी के प्रति अपना प्रेम और अनुराग की भी बातें कही। मंदिर सेवायत कान्हा गोस्वामी ने बताया कि दर्शन करने के बाद फैजल खान के साथ आध्यात्मिक चर्चा भी हुई। सेवायतों ने फैजल खान को दोपहर में राजभोग का प्रसाद लेकर जाने को बोला था। इसलिए वह शाम के समय अपने दोस्तों के साथ ब्रज चौरासी कोस यात्रा पर निकल गए। दो दिन बाद फैजल खान ने नंदभवन में नमाज अदा करते हुए फोटो जब इंटरनेट मीडिया पर वायरल किए तो उसके धोखे के बारे में पता चला। आचार्य हरिमोहन गोस्वामी ने कहा कि नमाज अदा करते हुए फोटो वायरल करना पाखंड है। गोस्वामी समाज इसकी निंदा करता है। इसका संज्ञान होने पर बीती रात को थाना बरसाना में मंदिर के प्रबंधगण कान्हा, मुकेश गोस्वामी और शिवहरी ने दिल्ली के रहने वाले चारों युवकों के खिलाफ बिना अनुमति मंदिर में नमाज पढ़ने, उसकी फोटो सोशल मीडिया पर डालकर मथुरा की शांति फिंजा का बिगाड़ने की रिपोर्ट दर्ज करायी दी है। चारों लड़के नई दिल्ली की खुदाई खिदमतगार संस्था के सदस्य बताये जा रहे हैं।

फेसबुक आईडी से हुई फोटो अपलोड

मथुरा के रहने वाले मधुवंदत्त चतुर्वेदी ने अपनी फेसबुक आईडी पर कुछ फोटो अपलोड किए हैं। इनमें दिख रहा है कि मथुरा के प्रसिद्ध नंदगांव स्थित नंदमहल में दो व्यक्ति नमाज पढ़ रहे हैं। उनकी इस पोस्ट पर हिंदू-मुस्लिम एकता को दर्शाने का दावा किया गया है। इसमें उन्होंने लिखा है कि दो व्यक्ति ब्रज चौरासी कोस की परिक्रमा लगाने के लिए निलेश गुप्ता और आलोक रत्ना निकले थे। उनके साथ फैजल खान और मोहम्मद चांद भी थे। चारों साइकिल से मथुरा के नंदगांव पहुंचे। जौहर की नमाज का वक्त होने पर मुस्लिम युवकों ने बिना अनुमति के मन्दिर में नमाज पढ़ी है। उसके उपरांत रामचरित मानस की पंक्तियां गोस्वामी अन्य लोगों को सुनाई।

Recent Posts

%d bloggers like this: