November 25, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

तिनके की तरह उड़ गए मकान और दुकान, दर्जनों लापता और हजारों बेघर

नई दिल्‍ली:- एक बवंडर ने वियतनाम को बर्बाद कर दिया है। 20 साल बाद इस देश पर ऐसी आफत आई है कि हर तरफ विनाश का मंजर है। बवंडर के कारण यहां पर बड़ी तादाद में लोगों की मौत हो गई है, दर्जनों लापता हैं और हजारों बेघर। मूसलाधार बारिश के बाद भूस्खलन के बाद बचे लोगों की तलाश के लिए वियतनाम ने गुरुवार को सैकड़ों सैनिकों और भारी मशीनरी को तैनात किया।
वियतनाम में 20 साल बाद कुरदरत का ऐसा ही कोप देखने को मिला रहा है, जिसमें सबकुछ तबाह हो गया है। मकान और दुकान तिनके की तरह उड़ गए, स्कूल, अस्पताल औ दफ्तर बर्बाद हो गए। यहां पर ऐसा बवंडर आया कि चारों तरफ चीख-पुकार और हाहाकार मच गया। 150 किलोमीटर की रफ्तार से आए इस बवंडर के रास्ते में जो कुछ आया, खत्म हो गया।

टायफून मूलावे की वजह से वियतनाम में अब तक 35 लोगों की जान जा चुकी है। बड़ी तादाद में लोग लापता हैं, लेकिन मौत का ये सिलसिला अभी रुका नहीं है। बवंडर के बाद शहर हो या गांव सब जलमग्न हो चुके हैं। जिंदगी पर सबसे बड़ा खतरा मंडरा रहा है, इसलिए लोगों को नांव से बाहर निकाला जा रहा है।
सरकार ने कहा कि भूस्खलन ने मध्य प्रांत के क्वांग नाम के भूस्खलन में 40 लोगों के लापता लापता हो गए। राज्य के मीडिया ने कहा कि समुद्र में 12 मछुआरों की मौत हो गई। उपप्रधान मंत्री त्रिनेत्र दीन्ह डंग ने एक बयान में कहा, “हम तूफान के रास्ते या बारिश की मात्रा का अनुमान लगा सकते हैं, लेकिन जब भूस्खलन होता है तो इसकी भविष्यवाणी नहीं कर सकते।”
तूफान के बाद सड़क गहरे कीचड़ से ढक गई है और अभी भी भारी बारिश हो रही है। राज्य टेलीविजन ने कहा कि 12 मछुआरों के शव पाए गए, जब वह किनारे पर लौटने की कोशिश कर रहे थे तो उनकी नावें डूब गईं। उन्हें खोजने के लिए दो नौसेना के जहाज जुटाए गए थे और 14 अभी भी लापता है।
अक्टूबर की शुरुआत से वियतनाम में तूफानों, भारी बारिश और बाढ़ का कहर जारी है, जिसने दस लाख से अधिक लोगों को प्रभावित किया है। सरकार ने कहा कि टायफून मोलवे – जिसे क्विंटा के नाम से भी जाना जाता है – इसकी वजह से लाखों लोग बिना बिजली के रहने के मजबूर हैं और 56,000 घरों को नुकसान पहुंचा है। मौसम एजेंसी ने कहा कि शनिवार तक मध्य वियतनाम के कुछ हिस्सों में 700 मिलीमीटर (27.5 इंच) तक की भारी बारिश जारी रहेगी।

इस तूफान ने सिर्फ वियतनाम में ही तबाही नहीं मचाई है, बल्‍कि इसका कहर फिलीपींस पर भी टूटा है। फिलीपींस में रातोंरात बाढ़, भूस्खलन के कारण कम से कम एक दर्जन मछुआरे लापता हो गए हैं। फिलीपींस सरकार के मुताबिक, 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं, जो हर तरफ विनाश की कहानी लिख रही हैं।

Recent Posts

%d bloggers like this: