November 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

शुभेंदु अधिकारी के भाजपा में जाने की अटकलें तेज, दिलीप घोष ने कहा खुले हैं दरवाजे

कोलकाता:- पश्चिम बंगाल के परिवहन मंत्री और सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शुभेंदु अधिकारी के भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने की अटकलें तेज हो गई हैं। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने रविवार को इसे और अधिक बल देते हुए कहा कि अगर कोई भी राजनीतिज्ञ भाजपा में आकर राजनीति करना चाहता है तो उसके लिए भाजपा के दरवाजे हमेशा खुले हैं। घोष इको पार्क में प्रातः भ्रमण के लिए निकले थे। उसी समय जब उनसे शुभेंदु अधिकारी के भाजपा में शामिल होने की अटकलों के बारे में सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि प्रदेश भाजपा ने अपने दरवाजे शुभेंदु अधिकारी के लिए और बड़े करके रखे हैं। दरअसल लंबे समय से शुभेंदु अधिकारी ममता बनर्जी से नाराज चल रहे हैं। इसकी वजह यह है कि अपनी पार्टी में ममता ने अपने बाद अपने भतीजे अभिषेक बनर्जी को सभी नेताओं से अधिक अहमियत देना शुरू कर दिया है और अघोषित रूप से उन्हें अपना उत्तराधिकारी बना चुकी हैं। तृणमूल के बाकी नेताओं ने तो इसे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर स्वीकार कर लिया लेकिन अधिकारी जैसे बड़े नेता इसे स्वीकार नहीं कर सके। हालांकि खुल कर कभी भी शुभेंदु ने ममता बनर्जी के खिलाफ कुछ नहीं कहा है लेकिन तृणमूल कांग्रेस के अंदर से लगातार शुभेंदु अधिकारी पर छींटाकशी हो रही है। ममता बनर्जी के बेहद करीबी अल्पसंख्यक मंत्री और कोलकाता के प्रशासक फिरहाद हकीम ने हाल ही में कहा था कि भारतीय जनता पार्टी शुभेंदु अधिकारी को ले जाकर अपने प्रदेश मुख्यालय में बैठा सकती है। इस पर पलटवार करते हुए शनिवार को ही शुभेंदु ने फिरहाद का नाम लिए बगैर कहा था, “मैं पैराशूट से नहीं उतरा हूं और ना ही लिफ्ट से चढ़ा हूं। एक-एक सीढ़ी चढ़कर अपना अस्तित्व बनाया हूं। छोटे लोगों की बातों का जवाब देना मैं जरूरी नहीं समझता। मुझे आश्चर्य हो रहा है कि कई ऐसे लोग हैं जो अपना अतीत भूल गए हैं।” इसके अलावा शुभेंदु अधिकारी पिछले कई दिनों से मेदनीपुर के अपने विधानसभा क्षेत्र में लगातार जनसभाएं कर रहे हैं जिसमें ममता बनर्जी का ना तो नाम लिखा जाता है और ना ही तस्वीर लगती है। इसके अलावा जनसभा को संबोधित करते हुए भी वह कभी भी ममता का नाम नहीं ले रहे हैं और ना ही राज्य सरकार के कार्यों की सराहना करते हैं। वह अपने व्यक्तिगत कार्यों के बारे में जनता से संवाद कर रहे हैं। इसलिए यह अटकल लंबे समय से लगाई जा रही हैं कि वह भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो सकते हैं। इस बीच रविवार को जब दिलीप घोष से फिरहाद हकीम के बयान और शुभेंदु के जवाब के बारे में सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वे लोग (फिरहाद) शुभेंदु को भाजपा में भेज कर ही रहेंगे। हमारी पार्टी के दरवाजे सबके लिए खुले हैं। जो भी आना चाहे उनका स्वागत है। हालांकि दिलीप घोष ने स्पष्ट किया कि इस बारे में अभी तक उनकी किसी से भी कोई बात नहीं हुई है। उल्लेखनीय है कि 5 नवंबर को गृह मंत्री अमित शाह दो दिनों के दौरे पर बंगाल आ रहे हैं। वह मेदनीपुर में जनसभा करेंगे। इसी की तैयारियों का जायजा लेने के लिए रविवार को दिलीप घोष मेदनीपुर रवाना हुए हैं।

Recent Posts

%d bloggers like this: