December 3, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सीतामढ़ी की सभी तीन सीटों पर होगी त्रिकोणीय जंग

पटना:- बिहार में दूसरे चरण में तीन नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव में सीतामढ़ी जिले की तीन सीटों पर त्रिकोणीय जंग देखने को मिलेगी। जगतजननी मां सीता की जन्मस्थली सीतमाढ़ी जिले में आठ विधानसभा क्षेत्र सीतामढ़ी, रूनीसैदपुर, बेलसंड, रीगा, बथनाहा (सु), परिहार, सुरसंड और बाजपट्टी आते हैं। सीतामढ़ी, रूनीसैदपुर और बेलसंड में दूसरे चरण में तीन नवंबर को जबकि रीगा, बथनाहा(सु), परिहार, सुरसंड और बाजपट्टी में तीसरे चरण के तहत 07 नवंबर को मतदान होना है। सीतामढ़ी सीट से राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के निवर्तमान विधायक सुनील कुमार से लोहा लेने के लिये भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने नये सिपाही डाॅ. मिथिलेश कुमार को उतारा है। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के राकेश कुमार टुन्ना, राजद और भाजपा को चुनावी अखाड़े में पटखनी देने के लिये पुरजोर कोशिश में लगे हैं। वर्ष 2015 में इस सीट पर अविश्वसनीय परिणाम देखने को मिले थे। भाजपा के टिकट पर तीन बार निर्वाचित पूर्व मंत्री सुनील कुमार उर्फ पिंटू (अभी जदयू के सीतामढ़ी सांसद) चौका मारने के इरादे से उतरे थे, लेकिन राजद के नये पहलवान सुनील कुमार ने उन्हें चुनावी अखाड़े में पटखनी दे दी। इस सीट बचाने के लिए राजद अपनी सीट बचाने के लिए जद्दोजहद कर रहा है वहीं भाजपा अपनी खोई सीट को वापस लाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है। रुन्नीसैदपुर सीट पर भी लोगो की नजरें टिकी हुयी है। इस सीट से पूर्व विधायक स्वर्गीय भोला राय की बहू निर्वमान मंगीता देवी राजद के टिकट पर चुनावी अखाड़े में उतरी हैं वहीं राजग के घटक जदयू से पंकज कुमार मिश्रा मैदान में हैं। लोजपा की गुड्डी चौधरी राजद और राजग उम्मीदवारों को चुनावी रणभूमि में ललकारने के लिये उतर आयी हैं। वर्ष 2015 में राजद की मंगीता देवी ने राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) उम्मीदवार पंकज कुमार मिश्रा को 14110 मतों के अंतर से पराजित कर दिया था। समाजवादी पार्टी (सपा) की ‘साईकिल’ पर सवार गुड्डी देवी तीसरे नंबर पर रही। इस बार इस सीट से नौ प्रत्याशी मैदान में हैं। मंगीता देवी के ससुर स्व. भोला राय रुन्नीसैदपुर सीट से 1995 और 2000 और 2005 फरवरी में प्रतिनिधित्व कर चुके है। गुड्डी देवी यहां से दो बार जदयू के टिकट पर अक्टूबर 2005 और 2010 में चुनाव जीत चुकी हैं। इस सीट का सर्वाधिक पांच बार विवेकानंद गिरी ने प्रतिनिधित्व किया है। बेलसंड विधानसभा क्षेत्र से जदयू की सुनीता सिंह चौहान चुनावी पिच पर जीत ‘चौका’ लगाने की कोशिश में लगी है वहीं राजद के पूर्व विधायक संजय कुमार गुप्ता और लोजपा के मोहम्मद नसीर अहमद उनका विकेट गिराने के लिए अलग-अलग प्रयास कर रहे हैं।वर्ष 2010 में जदयू की श्रीमती चौहान ने राजद के श्री गुप्ता को 19580 मतों के अंतर से पराजित किया था। वर्ष 2015 में राजग में सीट शेयरिंग के तहत यह सीट लोजपा को मिली थी। जदयू की श्रीमती चौहान ने लोजपा के मोहम्मद नासिर अहमद को 5575 मतों के अंतर से पराजित किया था। फरवरी 2005 के चुनाव में भी सुनीता सिंह निर्वाचित हुयी थी, हालांकि अक्टूबर 2005 में हुये चुनाव में राजद के श्री गुप्ता ने जदयू की श्रीमती चौहान को मात दे दी। करीब 15 वर्षो से राजद के श्री गुप्ता और जदयू की सुनीता सिंह चौहान के बीच शह-मात का खेल चल रहा है, और इस बार भी पुराने प्रतिद्दंदी चुनावी अखाड़े में एक दूसरे को मात देने की पुरजोर कोशिश में हैं। रालोसपा के धर्मेन्द्र ठाकुर भी चुनावी दौड़ में बाजी अपने नाम करने की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं। बेलसंड सीट से 15 प्रत्याशी चुनावी मैदान में ताल ठोक रहे हैं।

Recent Posts

%d bloggers like this: