November 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

खगड़िया में सभी चार सीट पर प्रतिद्वंद्वी पर सियासी ‘तीर’ चलायेगा जदयू

पटना:- बिहार में दूसरे चरण में तीन नवंबर को 94 सीटों पर होने वाले विधानसभा चुनाव में खगड़िया जिले की सभी चार सीट पर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक जनता दल यूनाइटेड (जदयू) महागठबंधन और अन्य राजनीतिक दलों के प्रत्याशी पर सियासी ‘तीर’ चला रहा है।
इस बार खगड़िया में अलौली (सुरक्षित), खगड़िया, बेलदौर और परबत्ता सीट पर राजग ने महागठबंधन और अन्य राजनीतिक दलों पर सियासी ‘तीर’ चलाने का जिम्मा जदयू को दिया है। अलौली (सु) सीट से महाठबंधन में शामिल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के निवर्तमान विधायक चंदन राम की जगह पूर्व विधायक रामवृक्ष सदा चुनावी महाकुंभ में भाग्य आजमा रहे हैं, वहीं जदयू ने उनपर सियासी ‘तीर’ चलाने का जिम्मा सत्ता के संग्राम की नयी खिलाड़ी साधना देवी को दिया है। लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) ने राजद और जदयू को चुनौती देने के लिये पूर्व विधायक रामचंद्र सदा को चुनावी अखाड़े में उतार दिया है। वर्ष 2015 में राजद उम्मीदवार चंदन कुमार ने सही निशाने पर तीर चलाकर लोजपा प्रत्याशी और दिवंगत पूर्व केन्द्रीय मंत्री राम विलास पासवान के भाई पशुपति कुमार पारस (अभी हाजीपुर सांसद) को 24470 मतों के अंतर से मात दे दी थी। पशुपति कुमार पारस ने अलौली विधानसभा क्षेत्र में सात बार प्रतिनिधत्व किया है। अलौली विधानसभा क्षेत्र से रामविलास पासवान भी वर्ष 1969 में निर्वाचित हुये थे। श्री पारस इस सीट से पहली बार वर्ष 1977 में निर्वाचित हुये।इसके बाद वर्ष 1985, 1990, 1995, 2000, फरवी और अक्टूबर 2005 में इस सीट से श्री पारस ने चुनाव जीता। वर्ष 2010 में हुये चुनाव में खुद को उपमुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बताने वाले श्री पारस को हार का सामना करा पड़ा था। श्री पारस जदयू के रामचंद्र सदा से 17523 मतों के अंतर से चुनाव हार गये थे। अलौली सीट पर इस चुनाव में 14 प्रत्याशी चुनावी अखाड़े में डटे हैं, जिसमें 12 पुरूष और दो महिला शामिल है।

Recent Posts

%d bloggers like this: