November 28, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बेटी की शादी में मित्तल ने खर्च किए थे 500 करोड़, अब बने ब्रिटेन के सबसे बड़े कंगाल

लंदन:- दुनिया के सबसे अमीर आदमियों की सूचि में शामिल लक्ष्मी निवास मित्तल के छोटे भाई प्रमोद मित्तल ब्रिटेन के सबसे बड़े बैंकरप्ट (दिवालिया) व्यक्ति बन गए हैं। एक समय ऐसा था जब प्रमोद मित्तल ने अपनी बेटी की शादी में 500 करोड़ रुपए खर्च किए थे। वर्ष 2013 में डच मूल के इन्वेस्टमेंट बैंकर गुलराज बहल के साथ प्रमोद ने अपनी बेटी सृष्टि की शादी की थी। लेकिन आज के समय में वह करीब 2.5 अरब डॉलर (लगभग 24 हजार करोड़ रुपये) का कर्ज से जूझ रहे हैं और इसे चुकाने के लिए उनके पास फूटी कौड़ी भी नहीं है।
प्रमोद मित्तल के पास 1.5 करोड़ रुपये की संपत्ति
प्रमोद मित्तल ने कहा कि अब उनके पास सिर्फ 1,10,000 पाउंड यानी 1.5 करोड़ रुपये की संपत्ति है। उन्होंने बताया कि उनके पास 7000 पाउंड की ज्वैलरी, 66,669 पाउंड के शेयर और दिल्ली में 45 पाउंड की जमीन है। जबकि उन्हें अपने 94 वर्षीय पिता को 17 करोड़ पाउंड (करीब 16 अरब 27 करोड़ रुपये), अपनी पत्नी संगीता को 11 लाख पाउंड (करीब साढ़े 10 करोड़ रुपये), अपने 30 वर्षीय बेटे दिव्येश को 24 लाख पाउंड (करीब 23 करोड़ रुपये) और अपने 45 वर्षीय बहनोई अमित लोहिया को 11 लाख पाउंड (करीब साढ़े 10 करोड़ रुपये) लौटाने हैं। इससे अलावा कंपनियों का उन पर अरबों रुपए का बकाया है।

14 साल पहले का फैसला बना सिरदर्द

करीब 14 साल पहले प्रमोद मित्तल ने बोस्नियाई कोक निर्माता कंपनी के लोन का गारंटर बनने पर सहमति जताई थी। इसके बाद से ही प्रमोद मित्तल को लगातार नुकसान ही झेलना पड़ा है। खबरों की मानें तो जीआईकेआईएल के लिए उनकी कंपनी ग्लोबल स्टील होल्डिंग्स गारंटर बनी और बाद में यह कंपनी दिवालिया हो गई। मूरगेट इंडस्ट्रीज से लिया गया लोन अभी तक लौटा नही पाई है। तय डेडलाइन पर जब प्रमोद मित्तल मूरगेट इंडस्ट्रीज का पैसा नहीं लौटा सके तब उनकी कंपनी के खिलाफ दिवालिया प्रक्रिया शुरू की गई।

कोर्ट ने मूरगेट इंडस्‍ट्रीज के पक्ष में सुनाया फैसला

प्रमोद मित्तल पर कर्ज तब और बढ़ गया जब 2017 में आर्बिटरेशन कोर्ट ने एक अन्य बोस्नियाई दिवालिया कंपनी के मामले में फैसला मूरगेट इंडस्‍ट्रीज के पक्ष में सुनाया। प्रमोद मित्तल ही इस कंपनी के भी लोन गारंटर थे और उसका कर्ज भी इनके माथे ही आया। इसके बाद मूरगेट इंडस्‍ट्रीज कोर्ट चली गई और जून 2020 में कोर्ट ने प्रमोद मित्तल के खिलाफ दिवालिया आदेश दिया। कोर्ट ने प्रमोद मित्तल को 139,786,656 पाउंड यानी करीब 14,000 करोड़ रुपए के अलावा 10,000 करोड़ रुपए का ब्याज नहीं चुकाने पर दिवालिया आदेश सुनाया। अब प्रमोद मित्‍तल कह रहे हैं कि लेनदारों को उनके द्वारा दिए गए हर पाउंड के लिए 0.18 पेंस वापस लेकर एक समझौते पर सहमत हो जाना चाहिए।

बड़े भाई ने किया किनारा

प्रमोद मित्तल के बड़े भाई लक्ष्मी मित्तल उनकी मदद नहीं कर रहे हैं। इससे पहले जब धोखाधड़ी के एक मामले में फंसने के बाद मित्तल अपना कर्ज चुकाने में नाकाम रहे थे तो उस दौरान लक्ष्मी मित्तल ने दो बार जमानत की राशि भरकर प्रमोद मित्तल को बचाया था। उन पर 84 करोड़ रुपए के संदिग्ध निकासी का आरोप था। इस केस में प्रमोद को 92 करोड़ रुपए की जमानत राशि पर रिहा किया गया था।

Recent Posts

%d bloggers like this: