December 3, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

चीन को कैसे दें मात? अमेरिकी विदेश मंत्री अगले सप्‍ताह आएंगे भारत और बनाएंगे रणनीति

नई दिल्‍ली:- भारत-चीन के बीच सीमा पर चल रहे तनाव के बीच अमेरिका के रक्षा सचिव मार्क ग्रो ने घोषणा की कि वह और विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ चीन की रणनीतिक चुनौती का सामने करने के लिए अगले सप्‍ताह भारत का दौरा करेंगे और दोनों देशों के गठबंधन को मजबूत करने के लिए रणनीति बनाएंगे। जानकारी के अनुसार एरिज़ोना ने अटलांटिक काउंसिल को एक संबोधन में कहा, “भारत हमारे लिए इस सदी में, इंडो-पैसिफिक में हमारे लिए सबसे अच्छा परिणाम देने वाला साझेदार होगा। उन्होंने कहा कि उनकी यात्रा पुराने गठबंधनों को मजबूत करने और अपने स्वयं के नेटवर्क के निर्माण से रूसी और चीनी प्रयासों के खिलाफ नए विकास के लिए एक व्यापक पहल का हिस्सा है। सुतों के मुताबिक, नई दिल्ली से अमेरिका की बातचीत से दोनों देशों के बीच होने वाली खुफिया जानकारी के आदान-प्रदान को बढ़ावा मिल सकता है। एरिजोना ने कहा, “भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है, वह बहुत ही प्रतिभाशाली लोगों के साथ एक बहुत ही सक्षम देश है, और वे हर दिन हिमालय में चीनी आक्रामकता का सामना कर रहा है।” खबर के मुताबिक बता दें की एरिज़ोना की टिप्‍पणी ऑस्ट्रेलिया की उस घोषणा के बाद आती है जिसमें उसने कहा कि वह अगले महीने भारत के तट पर बड़े पैमाने पर होने वाली मालाबार सैन्य ड्रिल में भाग लेगा। मालाबार में भारत, संयुक्त राज्य अमेरिका और जापान के साथ अब ऑस्‍ट्रलिया भी नौसेना अभ्यास करेगा। पिछले नवंबर में अमेरिका ने भारत के साथ अपना पहला द्विपक्षीय हवाई, भूमि और समुद्री अभ्यास किया था। जुलाई में विमानवाहक पोत एसयूएस निमित्ज़ ने भी भारत की नौसेना के साथ अभ्यास किया। एरिजोना ने कहा, ‘दोनों देशों ने पिछले महीने एक साइबर रक्षा संवाद भी खोला है।’ उन्होंने कहा कि भारतीय समकक्षों के साथ उनकी और पोम्पेओ की बैठकें भारत-प्रशांत क्षेत्र में चुनौतियों पर “बहुत अधिक निकट सहयोग” की आवश्यकता को प्रतिबिंबित करेंगी, जहां चीन अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहा है। साथ में ये प्रयास किया जाएगा कि दोनों देशों 21वीं सदी की सबसे परिणामी साझेदारियों में से एक बन सके।”

Recent Posts

%d bloggers like this: