November 25, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

एग्री टेक प्लेटफॉर्म उन्नति ने जुटाये 17 लाख डॉलर

नयी दिल्ली:- एग्रीटेक स्टार्टअप उन्नति ने नाबवेंचर्स फंड से प्री-सीरीज़ ए फंडिंग में 17 लाख डॉलर की पूंजी जुटाए हैं। कंपनी ने आज यहां जारी बयान में कहा कि इस फंड का मुख्य रूप से उपयोग तकनीकी प्लेटफॉर्म को अपग्रेड करने और अधिक पार्टनर स्टोर स्थापित करने में किया जाएगा।
पेटीएम के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी अमित सिन्हा और टाटा टेलीसर्विसेज के पूर्व अधिकारी अशोक प्रसाद द्वारा स्थापित उन्नति किसानों को प्रतिस्पर्धी मूल्य तक पहुंच बनाने के लिए एक टेक-इनेबल्ड प्लेटफार्म के रूप में काम करता है। साथ ही किसानों को अपनी पहुंच का इस्तेमाल करते हुए उनकी उपज के लिए उचित और पारदर्शी तरीके से बेहतर बाजारों तक पहुंच बनाकर अच्छा मूल्य प्राप्त करने में सक्षम करता है। यह किसान को पॉइंट-ऑफ-पर्चेज फार्म एडवायजरी के साथ-साथ वित्तीय सेवाएं भी प्रदान करता है। नाबवेंचर्स के मुख्य परिचालन अधिकारी मणिकुमार एस ने कहा कि उन्नति टीम किसानों के सामने आने वाली कुछ महत्वपूर्ण समस्याओं का समाधान कर रही है, जैसे पारदर्शी कीमतों पर क्वालिटी इनपुट्स की कमी और प्रतिस्पर्धी कीमतों पर उपज बेचने के लिए लास्ट-माइल बाजार लिंकेज की कमी। एक फिनटेक लेयर के समामेलन के परिणामस्वरूप ग्राहकों से जुड़ाव मिलता है। उन्नति प्लेटफॉर्म की एग्री इनपुट सेलिंग और मार्केट लिंकेज पेशकश की सराहना योग्य हैं। साथ ही इसके आगे बढ़ने की यात्रा में इसका समर्थन करने को उनकी कंपनी बेहद खुश हैं। उन्नति के पास पूर्वी, मध्य और पश्चिमी भारत में एग्री इनपुट्स और पर्चेजिंग प्रोड्यूस की बिक्री के लिए पार्टनर स्टोर का नेटवर्क है। नए जुटाए फंड के साथ उन्नति अब देश में किसानों और एफपीओ के लिए सबसे अच्छी डिजिटल तकनीकों को पेश करने पर फोकस करेगा। उन्नति के सह-संस्थापक अशोक प्रसाद ने कहा, “उन्नति में हमारा लक्ष्य देश के किसानों को सशक्त बनाना और उनकी उत्पादकता बढ़ाने के लिए सर्वोत्तम तकनीकों को लाना है। चूंकि, हम खेती की कई सारी जरूरतों को पूरा करते हैं, वर्तमान फंडिंग से हमें हमारे द्वारा प्रदान किए जाने वाले नए डिजिटल टूल्स के संदर्भ में हमारे वैल्यू प्रपोजिशन का विस्तार करने की अनुमति मिलेगी। हम नाबवेंचर्स के इस सहयोग के लिए आभारी हैं और इस फंडिंग के सहारे नई और महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल करने के लिए तत्पर हैं। यह फंडिंग हमें टेक्नोलॉजी में और हमारी भौगोलिक और क्रॉप फुटप्रिंट बढ़ाने में मदद करेगा।”

Recent Posts

%d bloggers like this: