October 29, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

युवाओं को हुनरमंद बनाना लक्ष्य, समस्याओं का निदान प्राथमिकता- हेमंत सोरेन

पूर्वी भारत के सबसे सुंदर नगर निगम कार्यालय के नये भवन का उदघाटन

देवघर:- झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने शनिवार को पूर्वी भारत के सबसे सुंदर नगर निगम कार्यालय के नवनिर्मित भवन का उदघाटन किया। साथ ही बाबा नगरी के लिए देवघर शहरी जलापूर्ति परियोजना का शिलान्यास भी किया गया है।
इस मौके पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण के इस दौर में रोजगार के अभाव व दिहाड़ी मजदूरों के सुविधा को देखते हुए मुख्यमंत्री श्रमिक योजना की शुरूआत की गयी है। वर्तमान में ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार को लेकर जो तनाव था, उसे काफी हद तक सरकार ने कम करने का प्रयास किया है। ग्रामीण क्षेत्र में करोड़ों मानव दिवस सृजित करने में सरकार सफल भी रही है। शहरी क्षेत्रों में भी कार्य के अभाव को देखते हुए योजना का शुभारंभ रांची से किया गया था। उन्होंने कहा कि इस योजना से शहरी जनसंख्या लोग, जो गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन कर रहे हैं, उन्हें लाभान्वित करने का लक्ष्य है। योजना से पांच लाख से अधिक परिवार लाभान्वित होंगे। साथ हीं श्रमिकों द्वारा आवेदन करने के पश्चात उन्हें 15 दिनों के भीतर रोजगार मिलने की गारंटी है। उद्देश्य स्पष्ट है कि झारखण्ड राज्य में कोई भी गरीब या मजदूर पैसे के अभाव में कष्ट न सहें। मुख्यमंत्री श्रमिक योजना का क्रियान्वयन झारखण्ड राज्य के सभी 51 नगर निकायों में किया जा रहा है, जिसके तहत राज्य के शहरी क्षेत्रों में निवास करने वाले गरीब परिवारों को गारंटीयुक्त 100 दिन का रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन से पूर्व किसी को इस बात का अनुमान नहीं था कि राज्य से कितने लोग विभिन्न राज्यों में कार्य करने जाते हैं। इसकी जानकारी लॉकडाउन के दौरान ही हुई। करीब दस लाख लोग रोजगार के लिए विभिन्न राज्यों में जाया करते थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखण्ड के श्रमिकों को ट्रेन व एअरलिफ्ट करा कर वापस अपने घर लाने वाला पहला राज्य झारखंड बना। श्रमिकों के लिए लगातार राहत कार्य में सरकार जुटी रही। करीब 25 करोड़ की राशि डीबीटी के माध्यम से श्रमिक भाइयों के खाते में भेजी गई ताकि लॉकडाउन में भी उनका जीवन यापन हो सके। राज्य में भी इस आपदा की घड़ी में भूख से किसी की मृत्यु नहीं हुई ये हम सभी के लिए सुखद है। लॉकडाउन के दौरान शुरू की गई दीदी किचन, मुख्यमंत्री दाल-भात केन्द्र के माध्यम से शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के लाखों लोगों को भोजन प्राप्त हुआ और इसका श्रेय हमारे जेएसएलपीएस के दीदियों को जाता है, जिन्होंने अपनी जान की प्रवाह किये बगैर लोगों को निःस्वार्थ भाव से सेवा की है।
हेमंत सोरेन ने कहा कि आज इस विपरित परिस्थिति के बीच हम सभी राज्य को सामान्य बनाने में लगे हुए हैं और यही वजह है कि लोगों की स्वास्थ्य सुरक्षा व मजबूरीवश बाबा मंदिर को भी बंद किया गया, जिसे अब धीरे-धीरे अब खोला जा रहा है। इसके अलावा कोविड-19 के प्रकोप व लॉकडाउन के वजह से प्रभावित लोगों की सुविधा के लिए प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत सुक्ष्म वित्तीय सहायता प्रदान करते हुए उन्हें सशक्त व स्वावलंबी बनाने का प्रयास किया जा रहा है।
इस अवसर पर मंत्री कृषि बादल ने अपने संबोधन में कहा कि नवरात्र के पहले दिन मुख्यमंत्री द्वारा देवघर की जनता को कई सौगात दी गयी है। हमारी सरकार ने कोरोना काल में आप सभी के सहयोग से बेहतर कार्य किया है। वहीं किसानों की बेहतरी के लिए कृषि, पशुपालन, मत्स्य, सहकारिता के क्षेत्र में हमारी सरकार लगातार बेहतर कार्य कर रही है। आज हमारी सरकार कृषि को बढ़ावा देने की दिशा में निरंतर कार्य कर रही है, ताकि किसानों को सुदृढ़ किया जा सके। कृषि के क्षेत्र में जो भी समस्याएं आ रही है उन सभी को शीघ्र दूर किया जायेगा और विकास योजनाएं पूर्ण रूप से धरातल पर दिखेंगी। उन्होंने कहा कि किसानों के लिए परंपरागत खेती के साथ आधुनिक तकनिकों की सुविधा के साथ मत्स्य पालन, दुग्ध उत्पादन के अलावा विभिन्न योजनाओं से जोड़ते हुए उन्हें सशक्त करने का प्रयास कर रही है।

Recent Posts

%d bloggers like this: