October 21, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

श्रीनगर: गुपकार घोषणा को लेकर फारूक अब्दुल्ला ने अपने आवास पर बुलाई बैठक, रिहा हुई महबूबा मुफ्ती भी होंगी शामिल

श्रीनगर:- नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे के संबंध में गुपकार घोषणा पर भविष्य की कार्रवाई का खाका तैयार करने के लिए गुरुवार,15 अक्टूबर को अपने आवास पर बैठक बुलाई है। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती भी बैठक में हिस्सा लेंगी। गुपकार घोषणा नैशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष अब्दुल्ला के गुपकार स्थित आवास पर एक सर्वदलीय मीटिंग के दौरान जारी किया गया प्रस्ताव है। इसे जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य के दर्जे को वापस लिए जाने से ठीक एक दिन पहले यानी कि 4 अगस्त, 2019 को जारी किया गया था।

क्या है गुपकार घोषणा?

प्रस्ताव में में कहा गया था कि पार्टियों ने सर्वसम्मति से फैसला किया है कि जम्मू-कश्मीर की पहचान, स्वायत्तता और उसके विशेष दर्जे को संरक्षित करने के लिए वे मिलकर प्रयास करेंगी। इस प्रस्ताव पर नैशनल कॉन्फ्रेंस के अलावा पीडीपी, पीपुल्स कॉन्फ्रेंस और कुछ छोटे दल शामिल हैं। इससे पहले सभी हस्ताक्षरकर्ता दल 22 अगस्त को आपस में मिले थे और जम्मू-कश्मीर के विशेष राज्य के दर्जे की बहाली को लेकर संकल्प लिया था।
उल्लेखनीय हैं कि मुफ्ती को 14 महीने की हिरासत के बाद मंगलवार को छोड़ा गया। इसके बाद फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला ने उनसे उनके आवास पर मुलाकात की। मुलाकात के बाद उमर अब्दुल्ला ने कहा कि मेरे पिता (फारूक अब्दुल्ला) और मैंने महबूबा मुफ्ती साहिबा से मिलकर रिहाई के बाद उनका हालचाल पूछा।
उन्होंने कहा कि पीडीपी नेता ने गुपकार घोषणा पर हस्ताक्षर करने वालों की गुरुवार को होने वाली बैठक में शामिल होने का न्योता स्वीकार कर लिया है। उन्होंने बैठक में शामिल होने के फारुक साहब के निमंत्रण को विनम्रता से मंजूर किया है।
बता दें कि गुपकार घोषणा, फारूक अब्दुल्ला के गुपकार स्थित आवास पर चार अगस्त, 2019 को हुई सर्वदलीय बैठक के बाद जारी किया गया एक प्रस्ताव है। इसमें कहा गया था कि पार्टियों ने सर्व-सम्मति से निर्णय लिया है कि जम्मू कश्मीर की पहचान, स्वायत्तता और उसके विशेष दर्जे को संरक्षित करने के लिए वे मिलकर कोशिश करेंगी।

मुफ्ती ने जताई खुशी

जानकारी के अनुसार उमर अब्दुल्ला के ट्वीट का जवाब देते हुए पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि आपके (उमर) और फारूक साहिब के घर आने पर बहुत अच्छा लगा। इसने मुझे साहस दिया है। मुझे विश्वास है कि हम सब मिलकर चीजों को बेहतर के लिए बदल सकते हैं।

बीजेपी की तीखी प्रतिक्रिया

वहीं, गुपकार घोषणा के लिए मीटिंग को लेकर भाजपा ने हमला बोला है। पार्टी ने कहा कि तीन पूर्व मुख्यमंत्री घाटी में परेशानी खड़ी करने के लिए साथ आए हैं। बीजेपी चीफ रविंदर रैना ने गुपकार घोषणा को ‘ऐंटी-नैशनल’ और ‘पाकिस्तान प्रायोजित’ बताया है। उन्होंने कहा कि अब्दुल्ला और मुफ्ती ने अपनी ताजा बैठक में गुपकार घोषणा के लक्ष्यों को आगे बढ़ाने का फैसला किया है, जिसकी बीजेपी कभी अनुमति नहीं देगी।

अब्दुल्ला-मुफ्ती पर आरोप

खबर के मुताबिक रैना ने कहा कि अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती जैसे राजनेता अपने अपराधों को कवर करने की कोशिश कर रहे हैं। गुपकार घोषणा की आड़ में वे घाटी में उपद्रव की योजना बना रहे हैं। बीजेपी स्पष्ट कर देना चाहती है कि जिस किसी ने भी घाटी में अशांति फैलाने की कोशिश की, उसे छोड़ा नहीं जाएगा। बीजेपी के अलावा प्रदेश की अपनी पार्टी ने भी गुपकार घोषणा का विरोध किया है।

Recent Posts

%d bloggers like this: