October 22, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कोरोना वायरस तथा अन्य बीमारियों से बचाव के लिये हाथ धोना एक प्रभावी उपाय

कोलकाता:- विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र की क्षेत्रीय निदेशक डॉ. पूनम खेत्रपाल सिंह ने गुरुवार को ग्लोबल हैंडवॉशिंग डे पर कहा कि कोरोना वायरस महामारी को दस महीने बीत गये हैं और अब भी शारीरिक दूरी बनाए रखना, भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचना, खांसी को नजरअंदाज न करना और बाहर जाते वक्त अनिवार्य रूप से मास्क लगाने जैसे सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों के साथ-साथ साबुन से हाथ धोना वायरस से अच्छा बचाव है।
डाॅ. पूनम ने कहा कि लोगों में जागरुकता बढ़ाने और बीमारी से बचाव के प्रभावी तरीके हाथ धोने के महत्व पर प्रकाश डालने के लिये हर साल 15 अक्टूबर को ग्लोबल हैंडवाशिंग डे मनाया जाता है। इस साल ने दुनिया और इस क्षेत्र को एहसास कराया है कि सरल और कम लागत वाले तरीकों से भी जीवन बच सकता है। उन्होंने कहा ” हाथ धोना हमेशा बीमारियों को दूर रखने के सबसे प्रभावी तरीकों में से एक रहा है। खुद को स्वस्थ और सुरक्षित रखने के लिये यह एक सरल कार्य है, जिसे थोड़ी-थोड़ी देर में किया जा सकता है। कोरोना वायरस की रोकथाम के मुख्य समाधानों में से एक हाथ धोना भी है। कोरोना वायरस के होते हुये अब हम पहले की तरह सामान्य हो गये हैं। हाथों की स्वच्छता को हमारी दिनचर्या और जीवन का एक अभिन्न अंग बनाने की जरूरत है, जैसे हमने इस महामारी के दौरान किया। स्वास्थ्य देखभाल के सभी स्तरों पर हाथ की स्वच्छता को बढ़ावा देना भी महत्वपूर्ण है। हाथ की स्वच्छता एक बहुत ही सरल काम है और स्वास्थ्य देखभाल से जुड़े संक्रमण को कम करने और मरीज की सुरक्षा बढ़ाने के प्राथमिक तरीकों में से एक है। ” डॉ. पूनम ने बताया ” इस वर्ष ग्लोबल हैंडवाशिंग डे की थीम हैंड हाइजिन फॉर ऑल है और हम समाज के सभी लोगों से विश्वव्यापी हाथ स्वच्छता के लक्ष्य को प्राप्त करने का आह्वान करते हैं। वायरस को हराकर और महामारी से बाहर आकर बेहतर स्वास्थ्य परिणाम सुनिश्चित करने के लिये साबुन से हाथ धोना आज और भविष्य में हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए। ”

Recent Posts

%d bloggers like this: