October 22, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मजदूरी करने को मजबूर है बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री भोला पासवान शास्त्री का परिवार

भतीजे बिरंची ने कहा, नेताओं से अबतक आश्वासन ही मिले, सरकार से मदद की गुहार

पूर्णिया:- बिहार में गली चौराहों पर सिर्फ विधानसभा चुनावों कीं चर्चा है। लोग विधायकों तथा मुख्यमंत्री को लेकर बहस करते दिख जाते हैं। ऐसे में कुछ लोग तीन बार बिहार के मुख्यमंत्री रहे भोला पासवान शास्त्री की चर्चा भी करते हैं क्योंकि भोला पासवान का परिवार इन दिनों पूर्णिया सिटी से लगभग 15 किलोमीटर दूर छोटे से गांव बैरगाछी में एक जर्जर घर में सालों से जीवन बिता रहा है।
भोला पासवान शास्त्री की कोई औलाद नहीं थी। उनके भतीजे बिरंची पासवान ने बताया कि शास्त्री जी की जिंदगी के आखिरी पल तक उनके साथ रहे। बिरंची पासवान के तीन बेटे हैं। तीनो ही बेटे दूसरे के खेतों में मजदूरी करते हैं। बेटे कपिल पासवान ने कहा कि परिवार की माली हालत ऐसी हो गयी है कि मजदूरी करना पड़ रहा है। कपिल ने कहा कि मुख्यमंत्री रहते हुए शास्त्री जी ने अपने घर और परिवार से ज्यादा समाज और प्रदेश के बारे से सोचा। बस एक छोटा सा जर्जर हालत में घर है। न जमीन है और जायदात। बिरंची पासवान ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मदद की गुहार लगाई है। परिवार का आरोप है कि नेताओं को सिर्फ चुनावों में उनकी याद आती है। बिरंची पासवान कहते हैं कि या तो जयंती और पुण्यतिथि पर नेता आते हैं या फिर चुनाव के वक्त परिवार की याद आती है। चिरंजी ने कहा कि अलग-अलग पार्टियों के नेताओं से मदद के वायदे मिल चुके हैं, लेकिन किसी ने कुछ नही किया। हमने इलाके की विधायक लेशी सिंह से इस मुद्दे पर बात की तो उन्होंने कहा कि भोला पासवान शास्त्री की ईमानदारी की वो कायल हैं और उनके ही दिखाए रास्ते पर चलने की कोशिश कर रही हैं।

Recent Posts

%d bloggers like this: