October 20, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

PoK में India के खिलाफ नई साजिश, मिसाइल सिस्टम लगाने में जुटा पाकिस्तान, चीन दे रहा है साथ

pakistan-china

नई दिल्ली:- चीन ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि पाकिस्तान उसके खास मित्र देशों की लिस्ट में सबसे ऊपर है। लद्दाख में भारत उलझा चीन इन दिनों पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में भी काफी सक्रिय है। भारत के रिसर्च एंड एलालिसिस विंग (रॉ) के सूत्रों के अनुसार पिछले महीने की एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन पीओके में एक नया मिसाइल सिस्टम लगाने में पाकिस्तान की मदद कर रहा है। भारतीय सुरक्षा एजेंसियां दोनों देशों की हरकत पर नजर बनाए हुई हैं। सूत्रों के मुताबिक चीन की सेना पीएलए और पाकिस्तानी सेना पीओके में लासाडाना ढोक के करीब सतह से हवा में मार करने वाली एक मिसाइल को इंस्टॉल करने के लिए मिल कर काम कर रहे हैं। जानकारी के अनुसार इस काम में करीब पाकिस्तानी सेना के करीब 130 लोग लगे हैं। साथ ही 25 से 40 नागरिक भी इस कंस्ट्रक्शन साइट पर मौजूद हैं। सूत्रों के अनुसार इस मिसाइल सिस्टम का कंट्रोल रूम बाघ जिले के पाकिस्तानी सेना के ब्रिगेड मुख्यालय में होगा। कंट्रोल रूम में पीएलए के 10 लोग मौजूद होंगे। इनमें तीन अधिकारी हैं।
रॉ के सूत्रों के अनुसार ऐसे ही निर्माण की जानकारी झेलम जिले में चिनारी और पीओके के हटियान बाला के चाकोटी में मिली है। इससे पहले जून में ऐसी जानकारी सामने आई थी कि पाकिस्तान ने अपने एक सीनियर अधिकारी को बीजिंग में पीएलए के मुख्यालय में भेजा था। इसका मकसद दोनों देशों में सेनाओं के बीच तालमेल को और बेहतर बनाना था।
इसी साल 5 फरवरी को भारतीय तटरक्षक बल ने पाकिस्तानी जलक्षेत्र में एक चीनी युद्धपोत को देखा। जियांगवी-इल फ्रिगेट को पोरबंदर से बहुत दूर नहीं, लगभग पाकिस्तानी जलक्षेत्र में 11 नॉट्रिक्सल मील की दूरी पर देखा गया था।
पाकिस्तानी और चीनी नौसेनाओं ने जनवरी में द्विपक्षीय अभ्यास भी किया था। सूत्रों ने कहा कि चीन पाकिस्तान को नौसेना से जुड़ी मदद भी कर रहा है। फिलहाल, पाकिस्तान आठ युआन वर्ग की पनडुब्बियों और चार 054A फ्रिगेट हासिल करने का इंतजार कर रहा है।
तीन दिन पहले, भारतीय वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने भी कहा था कि भारत इस बात से अवगत है कि चीन और पाकिस्तान सैन्य क्षेत्र में बेहद करीबी सहयोगी के तौर पर काम कर रहे हैं। हालांकि उन्होंने साथ ही कहा दोनों मिलकर फिलहाल भारत के लिए एक साथ खतरा नहीं बनेंगे। उन्होंने कहा कि ऐसा कोई संकेत नहीं मिला है। साथ ही उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि भारत हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार है।

Recent Posts

%d bloggers like this: