October 25, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

हाथरस कांड: पुलिस मेरी बहन का चरित्र हनन करने पर तुली है- पीड़िता का भाई

हाथरस:- यूपी के हाथरस जिले में दलित युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म मामले में कॉल डीटेल्स को पीड़िता के भाई ने अपने खिलाफ साजिश बताया है। पीड़िता के परिवार का कहना है कि वे लोग आरोपी के संपर्क में नहीं थे। उन्होंने कथित कॉल डीटेल रेकॉर्ड की सत्यता पर भी सवाल खड़े कर दिए। बता दें कि पुलिस की जांच में खुलासा हुआ था कि मुख्य आरोपी और पीड़िता के परिवार के बीच 5 महीने में 100 कॉल हुई थीं। पीड़िता के बड़े भाई ने कहा, ‘यह हमारे खिलाफ साजिश है। हत्यारे बहुत शातिर हैं। खुद को बचाने के लिए वे कुछ भी कर सकते हैं। उसने बताया कि 10 साल पहले उसने पिता के लिए सिम खरीदा था लेकिन उनका फोन खो जाता था। इसलिए मैंने अपनी आईडी से सिम खरीदा। फोन हमेशा घर पर ही रहता है। हर किसी के पास यहां तक कि प्रधान के पास भी हमारा एक ही नंबर है।’
पीड़िता के भाई ने कहा कि ज्यादातर उसके पिता ही फोन का इस्तेमाल करते थे लेकिन मुख्य आरोपी संदीप से कभी संपर्क करने के दावे के वह खारिज करते हैं। संदीप पीड़िता के घर की सड़क के दूसरी ओर रहता है। पीड़िता का छोटे भाई गाजियाबाद में काम करता है। उसने इस दावे के सबूत मांगे है। उसने कहा, ‘यूपी पुलिस हमें फंसाने की कोशिश कर रही है क्योंकि हम गरीब हैं। हमारे उत्पीड़न का कोई अंत नहीं है। अगर उनके पास रेकॉर्ड है तो सबूत भी होने चाहिए। मैं उन कॉल रेकॉर्डिंग को सुनना चाहूंगा।’ कॉल डीटेल रेकॉर्ड (सीडीआर) डॉक्यूमेंट में एक ही नंबर का समय, ड्यूरेशन, लोकेशन और कॉल की संख्या दर्ज है।
पीड़िता के बड़े भाई ने कहा, ‘पुलिस मेरी बहन का चरित्र हनन करने में जुटी हुई है। हम हर वक्त अपनी बहन पर नजर रखते थे। मुझे उस पर कोई शक नहीं है।’ छोटे भाई ने कहा, ‘मेरी बहन अनपढ़ थी। वह नंबर तक डायल करना नहीं जानती थी। वह कॉल रिसीव ही कर पाती थी।’ उत्‍तर प्रदेश पुलिस के अनुसार, पीड़‍िता के परिवार और मुख्‍य आरोपी के बीच फोन पर लगातार बात होती थी। पुलिस ने पीड़िता के परिवार और मुख्य आरोपी के फोन की जांच की। दावा है कि संदीप को पीड़िता के भाई के नाम रजिस्‍टर्ड नंबर से बराबर कॉल आते थे।

Recent Posts

%d bloggers like this: