October 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कंटेनमेंट जोन के बाहर सभी धर्म स्थल खुले

सोशल डिस्टेसिंग के साथ मंदिर में पूजा अर्चना की अनुमति

रांची:- झारखंड में छह महीने से अधिक समय के बादं कंटेनमेंट जोन के बाहर सभी धर्म स्थल (मंदिर, मस्जिद,गुरुद्वारा व गिरजाघर) गुरुवार से खुल गये। इसके लिए राज्य सरकार ने 32 शर्ते रखी हैं। इनमें मास्क और सोशल डिस्टेसिंग प्रमुख है। धार्मिक स्थलों पर दो लोगों के बीच छह फुट दूरी रखते हुए 50 लोग मौजूद रह सकेंगे। जगह कम होने पर संख्या घटेगी। धर्मस्थल के आसपास भीड़ नहीं लगानी है। सामाजिक दूरी का पालन करते हुए नमाज पढ़ी जाएगी या प्रार्थना होगी। परिसर में समूह में कीर्तन गायन नहीं होगा। परिक्रमा के समय भी छह फुट दूरी अनिवार्य होगी। पुजारी, पादरी और भक्तों के लिए मास्क अनिवार्य है। धर्मग्रंथों, मूर्तियों और घंटियों को छूना मना है। इसके अलावा न प्रसाद बंटेगा और न पवित्र जल का छिड़काव होगा।
रांची के दिउड़ी मंदिर, रामगढ़ जिले के रजरप्पा स्थित मां छिन्नमस्तिके मंदिर, चतरा स्थित मां भद्रकाली, खूंटी स्थित मां भद्रकाली मंदिर, कोडरमा स्थित ध्वजाधारी पहाड़ी मंदिर, धनबाद स्थित प्रसिद्ध लिलौरी स्थान मंदिर समेत अन्य मंदिरों में सुबह से ही मंदिर में पूजा अर्चना के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही।
गौरतलब है कि वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के कारण लागू देशव्यापी लाॅकडाउन से पहले ही 21 मार्च से ही राज्य में सभी धार्मिक स्थल आम श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिये गये थे। इस दौरान यहां पुरोहितों को प्रतिदिन मंदिर में पूजा अर्चना की अनुमति दी गयी। हालांकि इस दौरान उच्चतम न्यायालय के आदेश पर देवघर स्थित प्रसिद्ध बाबा बैद्यनाथ धाम मंदिर में शर्ताें के साथ श्रद्धालुओं के प्रवेश की अनुमति दी जा चुकी थी। लेकिन राज्यभर में धार्मिक स्थलों के आम श्रद्धालुओं के बंद रहने के कारण इस दौरान मंदिर के पुजारी और प्रसाद वितरण से जुड़े दुकानदारों के समक्ष आर्थिक संकट व भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई थी। ऐसे में पुजारी और व्यवसायी लगातार राज्य सरकार से मंदिर खोलने की गुहार लगा रहे थे।

Recent Posts

%d bloggers like this: