October 29, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

तेजस्वी पर हत्या का आरोप राजनीतिक षड्यंत्र, मामले की हो सीबीआई जांच : शिवानंद

पटना:- बिहार के पूर्व मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने पूर्णिया में दलित राजद नेता की हत्या के मामले में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव और उनके बड़े भाई तेजप्रताप यादव के खिलाफ दर्ज मुकदमे को राजनीतिक षड्यंत्र बताते हुए मामले की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने की मांग की है। श्री तिवारी ने सोमवार को यहां कहा कि पूर्णिया जिले के वाल्मीकि समाज के एक नेता की हुई हत्या की राजद घोर निंदा करता है। इस मामले में मृतक के परिवार के लोगों ने नेता प्रतिपक्ष तथा उनके बड़े भाई पर हत्या का आरोप लगाते हुए जो प्राथमिकी दर्ज कराई है वह पूरी तरह से गलत है। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव होने के कारण गंभीर राजनीतिक षड्यंत्र के तहत नेता प्रतिपक्ष और उनके बड़े भाई को नामजद अभियुक्त बनाया गया है। राजद नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। वह श्री सिंह के इस बयान को मुख्यमंत्री की पार्टी का आधिकारिक बयान मान रहे हैं और जदयू की इस मांग का समर्थन भी करते हैं। उन्होंने कहा कि राजद की भी मुख्यमंत्री से मांग है कि सरकार तत्काल इस मामले की सीबीआई से जांच कराने की सिफारिश करे। तिवारी ने कहा कि उनकी यह भी मांग है कि जब तक सीबीआई जांच पूरी नहीं हो जाती है तब तक मुख्यमंत्री अपने तथा अपने सहयोगी दलों के नेताओं को अनर्गल बयान देने पर रोक लगाएं। उन्होंने कहा कि वह उम्मीद करते हैं कि नीति और नैतिकता की बराबर दुहाई देने वाले मुख्यमंत्री उनकी बातों को गंभीरता से लेंगे। गौरतलब है कि राजद अनुसूचित जाति-जनजाति प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश सचिव शक्ति मलिक की रविवार को उनके घर पर तीन नकाबपोश हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। उनकी पत्नी खुशबू ने कल ही जिले के केहाट थाना में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव, उनके बड़े भाई तेजप्रताप यादव के अलावा अनिल कुमार साधु, मनोज पासवान, कालू पासवान और सुनीता देवी तथा तीन अज्ञात शूटरों के खिलाफ हत्या का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई है। इस बीच शक्ति मलिक का रिकॉर्ड किया हुआ एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें उन्होंने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पर उन्हें जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया था। शक्ति मलिक ने कहा था कि श्री तेजस्वी यादव विधानसभा का टिकट देने के बदले में 50 लाख रुपये चंदा देने की मांग की थी। इस पर जब उसने सोच कर जवाब देने की बात कही तो तेजस्वी यादव ने उसे जाति सूचक शब्द कहते हुए घर से भगा दिया था। शक्ति मलिक ने वीडियो में आरोप लगाया है, “तेजस्वी यादव ने मुझे धमकी देते हुए कहा था कि वह राष्ट्रीय नेता लालू यादव के पुत्र हैं और बिहार के उप मुख्यमंत्री रह चुके हैं। अगर अब तुम अपने क्षेत्र में काम करने जाओगे और अपने समाज के लोगों को एकजुट करोगे तो तुम को जान से मरवा दिया जाएगा।” राजद के पूर्व नेता की पत्नी खुशबू ने कहा कि उनके उनके पति ने चुनाव लड़ने के लिए टिकट मांगा तो उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया। वे अब निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ने वाले थे लेकिन राजद के लोगों ने उनकी हत्या कर दी।

Recent Posts

%d bloggers like this: