October 22, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मानव तस्करी पर अंकुश, 14 युवतियों को हैदराबाद जाने से रोका गया

सभी लड़कियों व युवतियों की उम्र 11 से 22वर्ष के बीच

रांची:- मानव तस्करी की आशंका के मद्देनजर रांची से हैदराबाद जाने वाली 14 युवतियों को पुलिस ने रोक लिया है। बताया गया है कि आठ नाबालिग लड़कियों और छह बालिक युवतियों को सिलाई ट्रेनिंग के नाम पर हैदराबाद ले जाने की कोशिश की जा रही थी, लेकिन देर रात 14 युवतियों के संदिग्ध अवस्था में स्टेशन में प्रवेश करते देख रेल सुरक्षा बल की जवान ने अपने वरीय को इसकी सूचना दी, जिसके बाद इन सभी को कोतवाली थाना प्रभारी को आगे की कार्रवाई के लिए सुर्पुद कर दिया गया है। रेल पुलिस अधिकारी ने बताया कि इन युवतियों ने प्रारंभिक पूछताछ में बताया गया कि उन्हें सिलाई ट्रेनिंग के लिए ट्रेन संख्या 07008 से हैदराबाद ले जाया जाना है। लेकिन सिलाई ट्रेनिंग के सम्बन्ध में पूछने पर इन सभी ने न किसी संस्था का नाम बताया ना ही लड़कियों को सिलाई ट्रेनिंग के लिए कोई वैधानिक दस्तावेज प्रस्तुत किया गया। इस दौरान उनके परिजन से बात करने पर पता चला कि उन्हें भी इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है। जिसके बाद रेल सुरक्षा बल के जवानों ने सभी युवतियों को कोतवाली थाने को सुपुर्द कर दिया गया।
बताया गया है कि 2 अक्टूबर की रात करीब आरपीएफ की महिला जवान खशबु कुमारी ने चेंकिंग के दौरान रांची स्टेशन के प्रवेश द्वार पर 14 लड़कियां संदिग्ध अवस्था में प्रवेश करते देखा। संदेह होने पर उनलोगो से पूछताछ की और इसकी सूचना मानव तस्करी पर अंकुश लगाने वाली टीम नन्हे फ़रिश्ते और अपने अधिकारियों को दिया । बाद उप निरीक्षक सुनीता तिर्की की टीम और एएसआई एमडी खान खान ने उन सभी से पूछताछ किया । पूछताछ में लड़कियों ने अपना नाम व पता के बारे में विस्तार से जानकारी ली। ये सभी युवतियां लातेहार जिले के मनिका और महुआटांड़ थाना क्षेत्र की रहने वाल है। इन सभी की उम्र 11 से 22 वर्ष के बीच है। गौरतलब है कि झारखंड के विभिन्न सुदूरवर्ती जिलों से मानव तस्कर गरीब बच्चियों को काम दिलाने के नाम पर बड़े शहरों में ले जाता है,जहां से उनके कई तरह के शोषण की खबरें मिलती है।

Recent Posts

%d bloggers like this: