October 21, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

हाथरस मामले में पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे राहुल-प्रियंका समेत 200 कांग्रेसियों के विरुद्ध केस दर्ज

नई दिल्ली:- यूपी के हाथरस जिले में दलित समुदाय की एक लड़की से सामूहिक दुष्कर्म और इलाज के दौरान उसकी मौत के बाद उसके परिजनों से मिलने जा रहे कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी बाड्रा को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। हालांकि बाद में उन्हें छोड़ दिया। देर शाम ग्रेटर नोएडा पुलिस ने उनके और कांग्रेस 200 नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली। राहुल और प्रियंका गांधी के खिलाफ ग्रेटर नोएडा के ईकोटेक वन पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई गई है। पुलिस ने राहुल और प्रियंका समेत कांग्रेस के 200 नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। मुकदमा धारा 144 का उल्लंघन करने तथा महामारी के दौरान आम लोगों का जीवन संकट में डालने के आरोप में आईपीसी की धारा 188, और धारा 269, 270 के तहत दर्ज कराया गया है। इससे पहले कांग्रेस नेताओं को हाथरस जाने से पुलिस ने रोक दिया था। इसके कारण तनाव की स्थिति बनी थी। कांग्रेस ने सामूहिक बलात्कार की पीड़िता के परिवार को हाथरस के जिला अधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार द्वारा कथित तौर पर धमकी देने के दावे वाले वीडियो सामने आने के बाद कहा कि लक्षकार के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करके कार्रवाई की जाए। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘ग़रीब-दलित-आदिवासी की आवाज़ दबाओगे, सच कब तक छुपाओगे, और कितनी बेटियां चुपके-से जलाओगे? अब देश की आवाज़ रोक ना पाओगे!’ पीड़िता के परिवार को कथित तौर पर धमकी देने से जुड़ा जिला अधिकारी का एक वीडियो शेयर करते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा, ‘यूपी सरकार किसी को पीड़िता के गांव जाने से क्यों रोक रही है उसका जवाब यहां है? पीड़िता के परिवार को हाथरस डीएम जाकर धमका रहे हैं। न मीडिया जा पायेगा, न हम लोग तो यूपी सरकार पीड़िता के परिवार को खुलकर धमका पाएगी। ये लोग अत्याचारी हैं।’ इस वीडियो में हाथरस के जिला अधिकारी प्रवीण कुमार पीड़िता के परिवार से कथित तौर पर यह कहते सुने जा रहे हैं कि आप अपनी विश्वसनीयता खत्म मत कीजिए… मीडिया वाले आधे चले गए हैं… कल सुबह आधे निकल जाएंगे… दो-चार बचेंगे कल शाम… हम आपके साथ खड़े हैं… अब आपकी इच्छा है कि आपको बयान बदलना है या नहीं। इस वायरल वीडियो को लेकर जिला अधिकारी की तरफ से फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

Recent Posts

%d bloggers like this: