October 21, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

लाकडाउन में मिली छूट के बाद खुले 90 फीसदी रेस्टोरेंट अभी भी नुकसान में चल रहे

नई दिल्ली:- अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों ने तमाम व्यवासायिक गतिविधियों को इजाजत देना शुरू कर दिया है। दिल्ली सरकार ने इसकी इजाजत केंद्र से हरी झंडी मिलते ही दे दी थी। धीरे-धीरे लोगों ने घर से निकलना भी शुरू कर दिया है। लेकिन, तब भी रेस्टोरेंट से जुड़े कारोबारियों का बिजनेस अभी तक घाटे में ही जा रहा है। नेशनल रेस्टोरेंट असोसिएशन ऑफ इंडिया से जुड़े लोगों ने कहा कि लॉकडाउन में टेकअवे काम को अनुमति थी। बाद में, जुलाई से रेस्टोरेंट खोलने की परमिशन मिली। वीकएंड्स पर लोगों ने रेस्टोरेंट में आना शुरू तो किया है, लेकिन अभी प्रोफिट नहीं हो रहा है। अभी भी 90 फीसदी रेस्टोरेंट नुकसान में चल रहे हैं। 45 फीसदी रेस्टोरेंट फिर से खुलने की स्थिति में नहीं है। क्योंकि किसी का बकाया किराया 5 लाख रुपये का है, किसी का 10 लाख रुपए का। महीनों से काम ठप है, यदि 5-10 लाख रुपए की सेल कर भी ली,तब भी काम कर पाना मुश्किल है।वहीं लोग किसी तरह रेस्टोरेंट चला रहे हैं जिनका पुराना काम है या दूसरे किसी काम से भी इनकम हो रही हो।
अभी तक सरकार की ओर से रेस्टोरेंट इंडस्ट्री को कोई सपोर्ट नहीं मिला है। इसके उलट यदि आप यूनाइटेड किंग्डम में वहां हर कस्टमर का आधा बिल या अधिकतम 10 पाउंड का खर्च सरकार उठा रही है। इससे घर में बैठे लोग भी रेस्टोरेंट आ रहे हैं। इससे रेस्टोरेंट इंडस्ट्री में फुटफॉल बढ़ रहा है। उनका कहना है कि अगले 6 महीनों तक इसी तरह काम चलने का अनुमान है।इसकारण, सरकार को बिजनेस को सपोर्ट करने के लिए कुछ इंतजाम करने चाहिए।
किसी भी मार्केट में रेस्टोरेंट में रोजगार के ज्यादा अवसर होते हैं। एक रेस्टोरेंट में कम से कम 50 लोगों का परिवार चलता है, जबकि किसी कपड़े, इलेक्ट्रॉनिक्स, किराना आदि के बिजनेस में 10-15 लोगों को नौकरी मिल पाती है। सरकारों को प्रयास करना चाहिए कि रेस्टोरेंट्स कल्चर बढ़े और लोग अच्छा समय बिताएं। दिल्ली में सरकार ने बीते 9 सितंबर से ट्रायल बेसिस पर बार और पब को फिर से खोलने की अनुमति दे दी है। इससे रेस्टोरेंट्स में फुटफॉल बढ़ा है। कारोबारी कहते हैं कि कस्टमर ड्रिंक लेता है, तब इससे बिल वेल्यू भी बढ़ी है। लंबे वक्त से मीटिंग्स नहीं हुईं, तो लोग इस बहाने भी बार और पब में पहुंच रहे हैं। रेस्टोरेंट में 2 व्यक्तियों के बीच 6 फुट की दूरी होनी चाहिए। फेस मास्क पहनना जरूरी हो। हाथ साफ करने के लिए सैनेटाइजर का प्रबंध। हर किसी को मोबाइल में आरोग्य सेतु एप इंस्टॉल करने की सलाह। इसके साथ ही होटल या रेस्टोरेंट के प्रवेश पर हैंड सैनेटाइजर के साथ थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था। स्टाफ और गेस्ट को मास्क पहना होगा। स्टाफ के हाथों में ग्लव्स जरूर हों। संभव हो तो होटल्स या रेस्टोरेंट में अलग-अलग एंट्री और एग्जिट प्वाइंट हों।

Recent Posts

%d bloggers like this: